नागरी प्रचारिणी पत्रिका | Nagari Pracharini Patrika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : नागरी प्रचारिणी पत्रिका - Nagari Pracharini Patrika

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about आदिनाथ नेमिनाथ उपाध्याय - Aadinath Neminath Upadhyay

Add Infomation AboutAadinath Neminath Upadhyay

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
वसुदेबहिंडी १७१ भाषा में लिखे जान पढ़ते हैं । ऐसा होते हुए प्रसंगानुसार अलंकारमय तथा समास- प्रचुर भाषा का भी प्रयोग मिलता है । यह प्रधानतः गद्य प्रथ हैः, परंतु बीच बीच में पद्य भी झ्ाए हैं । “बसुदेवदिंडी' में प्रयुक्त कितने दी शब्द किसी भी कोश में नहीं मिलते । उसमें शब्दों के ऐसे प्राचीन रूप मिलते हैं जो पिछले काल के प्राकृत प्रंथों में भी भाग्य से ही दिखलाई पड़ते हैं । इस प्रथ का सबसे श्रधिक मह्व यह है किं इससे गुणाढ्य की ब्ृहकथा की शैली रादि का पता चलता है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now