महावीर जयंती स्मारिका | Mahavir Jayanti Smarika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Mahavir Jayanti Smarika  by मोहनलाल - Mohanlal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मोहनलाल - Mohanlal

Add Infomation AboutMohanlal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
तहिसा किसी जंगल में एक भयानक साँप रहता था । एक बार एक सन्त उसके पास से गुजरे । साँप उनके पाँवो में लौटकर श्रपने उद्धार की प्रार्थना करने लगा । सन्त बोला--“किसी को काटा मत कर, तेरा भला होगा ।” सॉप ने काटना छोड़ दिया । उसके इस परिवतंन की चर्चा दूर-दूर तक फेल गयी । नतीजा यह हुम्रा कि दुष्टजन उसे लकड़ी, पत्थर इत्यादि से मार-मार कर सताने लगे । एक बार वही सत फिर उधर से निकले । साँप ने श्रपनी दुःख-गाथा बयान की-- “महाराज, भ्रापने भ्रच्छा उपदेश दिया, मेरा तो जीना ही मुहाल हो गथा । सन्त बोले-“भाई ! मैने तुभसे काटने के लिए मना किया था; यह्‌ कबक्हाथाकितू फुफकारना भी मत ।''




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now