गुजराती हस्तलिखित पद संग्रहों में प्राप्त मध्यकालीन हिन्दी पद साहित्य का आलोचनात्मक अध्ययन | Gujarati Hastalikhit Pad Sangrahon Men Prapt Madhyakalin Hindi Pad Sahitya Ka Aalochanatmak Adhyayan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : गुजराती हस्तलिखित पद संग्रहों में प्राप्त मध्यकालीन हिन्दी पद साहित्य का आलोचनात्मक अध्ययन - Gujarati Hastalikhit Pad Sangrahon Men Prapt Madhyakalin Hindi Pad Sahitya Ka Aalochanatmak Adhyayan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ओमप्रकाश - Om Prakash

Add Infomation AboutOm Prakash

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अष! १४ कु जिर विनी कष्य # क नवौपरव्य पी का रारि समस्य 1.291.527. 8.1 117.5..3.8..7. 5 7 ए. 1.8... 1 # श्र ॥ त की परमापद तङुष्णादार $ पमननर यट न सनसार विधान - मु म गे य उपर श्छ एप ५ { क 1 २.५ { हे ४६९ /। {41 1 ५ ~. द | (षष्ट न &ट 2 २.५.९८ ^ ) शै + 31 सको सतिः कि पिति भ नकैः पर्िजणिक ओति कति. सि किक सैन्ये शिनि सक न 3 भन व 0, „4 २४४} > भ~ ॥ रकर ¢ + १५१४ । +. ५ कौेम्ोतकमक न मे कमनः २८५ पर # {८५ > के | शै, भ ॥ भ, ६ ५ { ४ | 3 ४ # हर ११ $~ अञः स्य क क शमन व पः दी ख- सौप क्ररन्व और शाहीयना शिर श्न ४ न | 4 ॥ म~ प्रका सीत प्ररन् न] कै पुन अन्न माषः-की % गथ मा न र + ५५५१५ | मी क न शित | ¢ मृ न भट गन ४ {5443 ५ कैः ~ द {द 9 का




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now