अथर्ववेदसंहिता | Athrvavedsanhita

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Athrvavedsanhita  by जयदेव शर्मा - Jaydev Sharma

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

जयदेव शर्मा - Jaydev Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(९३)जिस प्रकार हल की फली से खत जात लेने पर उसमे पदा वोज खूव फलता है, उसी भकार इस भिरोम्णि वारा राष्ट्‌ के उत्तम रीति से तेयार हो जान पर राष््‌ मे सुक राजा फी प्रजा, पृ शरोर सव प्रकार के रत्र खूब बढ़ें ।(४) वरणमणिउक्क फालमणि के समान दी चरणमखि क बांधने मे श्रयं मे दरणो अमखि ०: इत्यादि का० १०। सू० ३ ॥ का विनियोग लिखा गया है । इस सम्बंध में भी हमें कुछ विशेप कहना उचित नहीं जान पढ़ता । इतने से ही पाठक जान कि लें इस सूक़ में वरणमाणि के दिये विंगोपण वरणा चृत्त के काष्ट- खण्ड म न घट कर वीर नेता पुरुप में ही घटते हैं । जैसे--१--अय्‌ं मे व्रणो मणिः सपनक्षयणो दृषा । तेनारभस्वं स श्रन्‌ प्रमूणीदि दुरस्यतः ॥ १ ॥चररामणि शदो का नाशक, वलवान्‌ पुप शर्थात्‌ “वृषा है । उसकेब्ल पर है राजन्‌ ! तृ गतुश्रो का नाश कर, दु9् को कुचल डाल । २-अवारयन्त चरणेन देवा: मभ्याचारम्‌ मघराणां धः शचः ॥ २ ॥वरण के वल सेः विद्वान्‌ लोग दुष्ट सुरौ के अत्याचार को चरा चर्‌ दूर करते हैं ।स ते शत्रनू मधरान्‌ पादयाति पूर्व: तानू । दम्लुहटि ये खरा द्विपन्ति ॥ ३ ॥षचह तेरे शत्ुधों को नीचे गिरि श्रौर सव से प्रथम बह उनको मरं जो राजा को प्रेम न करके द्लेप करते हैं । चरण के स्पष्टीकरण के लिये स्वर चेद लिखता है-- अर्यं मे वरण उरसि राजा देवो वनस्पतिः ॥ ११ ॥ यह मेरा 'चरणु' छाती पर बाहू के समान सन्निय, राजा, स्ाहात्‌ विजयी है घर बढ़े दृत्त के समान सबका आश्रयप्रद वनस्पति है. |




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!