हमारे उस पार के पड़ोसी | Hamare Us Parake Pandosi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Hamare Us Parake Pandosi by काका कालेलकर - Kaka Kalelkar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about काका कालेलकर - Kaka Kalelkar

Add Infomation AboutKaka Kalelkar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
कि रैक ७»... ७... हिन्दी पाठकाके लिअे पूवं अपफ्रीकाकी ढाओी महीनेकी मुसाफिरीमे मते देखा कि वहां पर जो दो लाख भारतीय रहते हं, अनम से करीव ८० फीसदी गृजरात, सौराप्टर्‌ ओर कच्छके हिन्द्‌-मुसटमान हं। वं सव घरमे गुजराती भाषा बोलते हैं। जिसलिअ अनके लिअ और अनके भारतवासी स्नेही-संवधियों वैः छिञ मेने यह पुस्तक गृजरातीमे लिखी । किन्तु पूर्व अफ्रीकाका सवाल सारे भारतवर्षका सवाल हू । जिसलिअ यह हिन्दी अनुवाद दाया किया गया है । थोड़े ही दिनोंमें जिसकी अंग्रेजी आवृत्ति भी संक्षिप्त रूपमं प्रकादित होगी । १-१२- १९५१ काका कलेलकर ११




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now