नल दमन | Nal Daman

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Nal Daman by विश्वनाथ प्रसाद - Vishvanath Prasad

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

विश्वनाथ प्रसाद - Vishvanath Prasad के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
नल-दमन ५ से०।।१७ (स ०))। १६ (क०)मंगत्त लोशन की मांगा । लिस्ट घन फिर श्रातिनि लि सांगा ।। (कं०)|मंगत दवन क मामा । तिन्ह वन फिरहिं रतनग मांगा ॥ (०)2संगत लोॉकन की मांगा । तिस्ह घन भर रतन नग सांगा 1 (संर)प व 4'द{० 11 वह्‌क~ 2 कप्टाजे मंगत थन दर दर डोले । प्रौ दर पग हरे बिन डोले ।। (का| 1 गजा संगत घन घर घर टोन । सो दर पण न वरं छिन टोल 11१ 2 थजा संगत घन दर दर टोल । सो दर पग से घर छिन दोलं।। दो० 11२१ (सि०।॥। २० (कार)कघीन सहेव गांठ सो छूटी । जड़. चेतन दने जेवर टूटी 11 (कांठ०)[11कहा श्रोर मोह गांठ सो छटी । लड़ तरेलन दधित जेवर टृटी॥ (न्न०)के शा कम शीपपटएफ कक चिक-25/इप कराकी धीव महव गांठ सो छड़ी । जड़ चेतन हृत्त जेवरि टूटी 1 (संर)उदेत दोहा इस प्रकार है माया मसोहि मिलाप परौ, पौव भयों ब्घि... जीव 1 सति गुरु फरि सधान मन, काहि दिदायो चीव ॥२०।। (कां) माया नही निलाप च्य, धिव जो भयो देवि जीव 1जापक शिणसंकर फटि मयान सन, काढ़ देषा यह्‌ घौ \ (स०)माया र मिलाप स्या, विडू भये दयि जीव । सतवृरु फ्रि मथानि मन, काटि द्खिायो घीव ॥ (सं)कग्रंथ की नात प्रतियाँसंप्रति ग्रंथ की चार प्रतियाँ ज्ञात है । इनमें से एक तो बंबई प्रिस-ब्राफ-चेल्स +यूजियम की फारसी प्रति है श्रीर दो (दूसरो-तीसरी) उसी की नागरी श्रक्षरों में की गई प्रतियाँ हू जिनमें से एक काकी नागरी प्रचारिणी सभा में सुरक्षित 'स० प्रति (टंक्रित) है तथा दुसरी उप्त स्पूजियम के कयूरेटर 'टा० श्री मोतीचंट जी की प्रति है । चौथी करः प्रति श्री मुनि कांतिसागर जी कौ प्राचीन टुरतलिखित देवनागरी प्रति है । डा० श्री सोतीचंद जी की प्रति का भी थोड़ा बहुत उपयोग किया गया है ।एश्रल(र्‌ प्रद3.2जता कि श्रारंभ में लिखा जा चुका हैं, नलदमन के संबंध में सर्व प्रथम लिदयसनीय सुचना दने का श्र श्री० डा० सोतीचंद जो को है । उन्होंने ग्रंथ के विषय में एक लेख भी नागरी प्रचारिणी पत्रिका में छपाया | उस लेख मे प्रस्तुत संपादन में सहायता न लेना




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :