हिम - तरंगिनी | Him - Tarangini

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : हिम - तरंगिनी  - Him - Tarangini

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about माखनलाल चतुर्वेद्दी - Makhanlal Chaturvedi

Add Infomation AboutMakhanlal Chaturvedi

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
; ३ ; खोने को पाने शये रहो? रूठा यौवन-पथिक, दूर तक उसे मनाने आये दो? खोने को पाने श्राये हो? आशा ने जन झंगड़ाई ली, विश्वास सिगोढ़ा जाग उठा; मानो पा, प्रात, पपीहे का- जोडा प्रिय बन्धन त्याग उठा, मानों यमुना के दोनों तट ते लेकर लहर की बाहे- मिलते मे श्रसफल कल-कल मे- रोये ले मधुर मलय थाह, क्या सिलन-मुग्ध को, बिछुड़न की, वाणी समभकाने आये हो ? खोने को पाने श्राये हो? जव वीणा फी खरी खीची, येयस कराह भकार उठी, मानो कल्याणो वाणी, उठ- गिर पढ़ने को लाचार उठी, तारों मे तारे डाल - डाल मनमानी जच सिजराब हुई, बन्धन की सूली के भूलो- की जब थिरकन बेतात्र हुई, हिम-तरंगिनी 3 | [ पोच




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now