श्री जैन सिद्धान्त बोल संग्रह भाग 2 | Shree Jain Sidhant Bol Sangrah Bhag 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्री जैन सिद्धान्त बोल संग्रह भाग 2  - Shree Jain Sidhant Bol Sangrah Bhag 2

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अगरचन्द भैरोदान सेठिया - Agarchand Bhairodan Sethiya

Add Infomation AboutAgarchand Bhairodan Sethiya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
{>} मकाद न= ६ चेषा तैन तथा न= १११, ११२, ११९, ११५ भ्रौ १४ कर्निंग रटीट का सीमा दस्ता । क्लक्ना रमिम्टी आङिसिम 9 १० २ १६” हू को रतिस्ट्री वरादी गई है । वार्पिस झाय - ८०९) य इट थि । उ-ससेन लेन वाले उपरोक्त मरान का पक भोरतीसरा दिखा ताज १६. 2 ५० ४ * वो सस्था ने रारीदा । इस प्रकार सम्था के पास उपसंक्ष सका का थे हिदाद दो गया । इस दिरसे का दिया भी रु ४४००] से कठ अधिक भाता है । ४ ४--मोबानिर मोहटा मरादियन का विशाल भेयन सैपर, लामायिव,पाया, निमण, ब्याख्याए भादि धार्पिस वायों के लिए दे दिया गया। इसी रजिरसस थी द्वनिर में ता० ३० नवस्थर सन्‌ १६२६ का दुह । मादय मरोच्दिन का दय प्रात मदन, रुमे लायतरेयी यन्या राता भ्रामरी स्दल श्रौर नाडट सिज भादि मंस्था ६ { क्रति ना ७ नवम्बर १६०३ वो रतिस्ट्री हुई । टि परेद--दम ददत सतीन १ दष्टो परेवा जना सभी प्रकार क हिन्द] टा दै य पते वाद्‌ सद्व दृभी गृध्या य उन्दने स्था यो भेट ॐ दिया। 4 पस्था क प्रबन्ध के लिए एक कमेटी या। हुई है, छनुमार प्दाधिश्चरो तया रदस्य इन मुमपादि--भीमान्‌ रानगरीर्‌ सेट भरेरोदानभी सेधिया । मन्री-~- भीमान्‌ लेटमदमी सेदिया 1 <पमची--याबू मागरचन्दजी सेटिया 1 ॥ सवेम्य-- १ श्रीमान्‌ सेठ कानीरामभी र्माणि | ्रोमान्‌ मदा जुपर्सिदना चैद्‌ । श्रीमान सेढ एुमचन्द्जौ चंडातिया(्ादिम) ४ श्वीमान पानमजती सेटिया । श्वीमान सेठ मगनमजनी कॉठोरी। « धीमान सेठ गोदिन्द्रामनी मदय ; श्नीमान जुगराजनी सेटिया । ॥. नीय पित द् नहर हल न ^




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now