मणि - मंथन | Mani - Manthan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Mani - Manthan by मणिप्रभसागर जी - Maniprabhsagar Ji

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मणिप्रभसागर जी - Maniprabhsagar Ji

Add Infomation AboutManiprabhsagar Ji

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
उपोटुघात प्रवयन परिवर्तनं का सवक साधन है । वीतराग वाणी के प्रति समर्पित आचारनिष्ठ ज्ञानीपुरुष के स्वय स्फूर्ठ चिन्तन से निसृत यह वह अमृत हैं जो श्रोता को अजर-अमर बना देता है । यह वह सजीवनी है जो मोह-मूरच्छिति आत्मा को सजग बनाती है । यह वह सूर्योदय है जो सुपुप्त चेतना के जागरण का शखनाद करता है । यह वह कला है जो दिगु-भ्रमित मानद को सही दिशादोप कर श्रद्धा जौ सकस पूर्वक उस ओर कदम वढाने का अप्रतिम साहस प्रदान करती है । किसी चिन्तक ने ठीक ही कहा है- वक्ता श्त सहद्रेषुः अर्थात वक्ता लाखों मै एक मिरता है । सामान्यत सभी कलाएँ प्रयास साध्य होती है । प्रवचन देना धी एक कला है अते वह भी प्रयास साध्य है किन्तु जीवन में सर्वागीण विकास उन्हीं कछाओं का होता हैं जिनके बीज सहज-संस्कार के रूप में होते हैं । प्रस्तुत सग्रह एक ऐसे ही प्रवयनकार की अनमोल प्रसादी है जिनमे वक्तृत्व के चीज सहज संस्कार के रूप में उपकब्ध होते हैं । ये प्रवचनकार हैं-प. पू प्रज्ञापुरुष आचार्यदेव श्री जिनकांतिसागर सूरीस्रजी मे सा के प्रधान ऐिप्य प. पू महाप्रत प्रसिद्धबकता गणित श्रो 'मणिप्रभतागर जी भ. सा । जो केवि साधक व मनस्वी चिन्तक हैं 1 जीवन समस्याओं का पर है-ज्यों-ज्यों भौतिक साधन और सुविधाएँ बढती जाती हैं त्यॉ-त्यों मानव का 'भटकाव और तनाव बढ़ता जाता है । सुख शान्ति को पाने का बढ जितना अधिक प्रयास करता है उतनी ही अधिक वे उससे दूर होती जाती है। इसका मूल कारण है-अर्सपम.....बषिक सुखो की आसक्ति । जवं तक मन दिपयों में भटकता रहेगा इन्द्रियां विपयों की ओर दौडती रहेगी आत्मसपम की बात असमद है । विना आत्मसयष के उस सुख और शान्ति की उपलब्धि कल्पनामान्र है जिसके माद में मानव सब कुछ होते हुए भी निरन्तर रिक्तता का अनुभव करता है । असन्तोप और आतदृप्ति की आग में जलता रहता है । इमं सवका समाधान है-शान्ति और सुख की सच्ची राह चींपने दाल महापुरुष का मार्गदर्शन | ुपुत्त चेतना को जगाने वाली साधक की सत्प्ेगगा । जीवन के छश्य का निर्पारण करने घांठी ज्ञास पुरुष की वापी । प्रतत प्रवचन वास्तव मे मार्गदर्शन, प्रज्ञा जागरण ओर ल्य का निर्पारण के सवत प सफल प्रयोजक हैं जो हमारे अस्तित्व को पृथक ही नहीं करते अपितु उसे सर्वो्पारि महत्व देने को प्रेपिति करते हैं । सापना के द्वारा स्वप को उपलब्ध करना यहीं जीवन का सर्वश्रेष्ठ उपलम्य और प्राप्य है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now