क्या मैं अन्दर आ सकता हूँ | Kya Main Andar Aa Sakata Hun

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Kya Main Andar Aa Sakata Hun by लक्ष्मीचन्द्र जैन - Laxmichandra jain

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

लक्ष्मीचन्द्र जैन - Laxmichandra jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
सवाल वनाम सिगरेट १७तो वे कहने हैं, “कला क्यो ? व्यवसाय क्यो नही !“जब उनसे कोई कहता है ! “साहव, घर्म--”तो वे कहते है, “धर्म क्यो ? झ्रायुनिक राजनीति क्यो नही ?“जव उनसे कोई कहता है, “साहव, सास्कृति्र घिक्षा--'तो वे कहते हैँ, “सास्कृतिक शिक्षा कयो ? उद्योग करो नहीं ! ”जव उनसे कोई कहता हैँ, “साहव, प्रेम--'तो वे कहते है, “प्रेम यो ? स्त्री बयों नहीं ! (या कोर्ट कोर : “पुरुद क्यों नहीं 1”)जव उनसे कोई कहता है । “साह्व, गन्ति--तो वे कहते है, “शान्ति क्यो * विजव क्यो नरी 1जब उनेने कोई कहता है, “साहव, एक सवाल--”तो वे कटूते है, “सवात क्यो ? सिगरेट क्यो नही 7?




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :