बौद्ध साहित्य की संस्कृत झलक | Bauddh Sahitya Ki Sanskratik Jhhalak

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Bauddh Sahitya Ki Sanskratik Jhhalak by परशुराम चतुर्वेदी - Parashuram Chaturvedi

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about परशुराम चतुर्वेदी - Parashuram Chaturvedi

Add Infomation AboutParashuram Chaturvedi

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
७ तमिल प्रति जैसे एकाष प्रदेशो की माषा श्रधिक प्राचीन है तथा चगाल एवं उत्कल जैसे कुछ प्रतो मे वौ घमं का प्रभाव किंचित्‌ पीछे तक भी बना रहा वहाँ की प्रादेशिक भाषाश्रों के पुराने साहित्य में मे बौद धर्मं एवं सादित्य-सम्बषौ सामान्य वातो का कमी स्वंथा श्रमाच नष्टं दीख पडता) पुस्तक में संग्रहीत निबंधों के लिखने में जिन विद्वानों की रचनाश्रों से सद्दायता ली गई है उनका मैं श्रामार स्वीकार करता हूँ श्रौर, इन्हें संग्रदीत करते समय जो बहुमूल्य सुकाव मुझे श्रपने श्रनुज थी नर्मदेशवर चप्तुवेदी से मिले हैं उनके विषय में भी यहाँ चर्चा कर देना श्रपना कतंब्य समकता हूँ । पुस्तक में मुद्रित 'प्रचज्या तथा पतुच को सुधी पाठक सुधार कर 'प्रवज्या” श्रौर पकुघ पढ़ने की कृपा करें । बलिया १५ प्रास्त, १६५८ परशुराम वतुर्वेदी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now