उपदेश - रत्न - कोष | Upadesh Ratn Kosh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : उपदेश - रत्न - कोष  - Upadesh Ratn Kosh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मोहनलाल दुलीचन्द देसाई - Mohanlal Dulichand Desai

Add Infomation AboutMohanlal Dulichand Desai

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
उप केश-रत्स-कतेब |. ॐ मिल सकेगप, नोर खुरली सामे, वाले, त्था बिन्दा करने वज्ञ को, ऊषर कहे दुप: सद्धुष्य की निन्दा करने का बहाना भी न मिल सकगा। कलिकाल कार्मा कुछ नहीं चल सकता ॥! नियमिज्जइ नियजीहा अधि आरिअिं नेव किज्जएकज्ज नकुलकम्मा अ लुप्पहे कुवि कि कुणइ कलिकालो ५४ नियमनीया निनजीड़ा अधिचारितं 'नेव करणीयकृत्यं | न कुल क्रमश्च लापनोीय: कुपितः कि करोति कलि कालः ॥ भअथ--झपनी जीम को कश में रखिये. कभी भी. बिना स्गोचे समभे काम न करिये, झौर कल्ाचार को न लोपिये तो सालात्‌ू कोपायमान कत्ति भी कया ऋर खसक्ता है? कुछ नहीं | वित्रैचन--ज असत्य निन्दारूपङ्गशवद्धक, सथा निर- थक, चनन बोलते, बितंमाषी होने की हादिक इच्छा जगे, दव्य. त्ते. काल. भाव, सम्दन्धी विचार किये बिना करोर न्य न कर्ने की. ध्यानपरं रहे, श्रौर विना किम्नी बडे परो कार के कलाचार न लोपने की सावधानी रहे तो कितनी भी कड़ी शत्रता वाला बरी भ्ल न दे सके, क्योंकि जो : निश्यय श्रौर व्यवहार से पत्िन्न हैं उन धुर्य के शन्न भी मित्र बन ज्ञात हे । सज्जन का राह | मम्मन उलबिज्जइ कस्स वि आल न दिज्जह कऋयावि को वि न उकको सिज्जह सज्जण सग्गों इसो दुर्गो।।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now