जैनाचार्य श्री आत्मानंद सेंटेनरी कोम्मेमोरातिओं वोलुम | Jaincharya Shri atmanand centenary commemoration volume

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : जैनाचार्य श्री आत्मानंद सेंटेनरी कोम्मेमोरातिओं वोलुम - Jaincharya Shri atmanand centenary commemoration volume

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मोहनलाल दुलीचन्द देसाई - Mohanlal Dulichand Desai

Add Infomation AboutMohanlal Dulichand Desai

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
भ. ७६ शीष ६ दथ ता. $. पपरवु १७१०५ शन्‌ 3६ भ अ अनथ महार पाही नांगवाते। लायाब॑श्रोने। जादहेर भवतां दभ्र हु, परु तेन्‌ ৬২৭1 ॥2क्षाउ पिधनाना जावेबा क्षणा मभ रहे 9৭ विषम स्थितिन। भंक्व ६२ ५२१।, ते बेणाने जने ৩৪১ দস! ২1০৯ 9৩ इत्‌। तेवे बने विशेष विशेष ইন উন হজ হণ 1৭:81 ৭০। ২) अन्थना अडाग्रनवु न्‌ क्षमाधु, पछी जा सर जेना जदि मातन उर्व भारे जिरे जाव्यु, जने पी यारियनाथढ़ संभधी 5 विस्तृत तेज पणु संपा८६ तरीड$ ৫৮0] খঠম।, गज! अन्धभां भाषाती ६ट्टिस यार विभाग पाउवाभा[ मान्य छ:--१ स्ंग्रे७ पिशाण २ हन्दी (519 ৩ ২০৭1 (9৬14-%1 जात्माराभष्ठ विषय ४ भूर = विभाग-४ंतरविष१४, इरें४नी ५४ संज्यने। जक्षण जक्षण १ थी #+ राजवाभां खजाव्यो छे. पद्ेश्वाना ४. उच थी, शीर्तना ४. ८१ थी, त्रीग्गना भू, १०२ थी जनते गोयाना ४. जड़ थी ते ते বদলি जंतसुपीनां ইহ তব সখ পয ७।४ थमु छ. तनी सम।इना ` मुह्‌ त संरीधन जआावनगरभां अशावायु' छे. यित्रा धुष्ण जापपाभां जाल्यां छे, यरिवनाव॥, तंभनी ० ५२५२-४ %व।न्‌, तनी सेस्थाआा भेज: परेनां बोटर्वा সণ ধথ रत्‌ नधत समाव थये। छ. से सर्बाने। परियव जापवायुं पिरत्‌त हाय হহথ। 01 সনখষ। এজ এ ই तभ 9 तथी तम दर বল আধ नयी, २० 8५५२ अन्यते पर्‌ भालयनु यद्र सत्‌ ते সঙ হও এসো मे स्थान এস এ 458 ৮ ৭ ५५ न्‌ शध्त्‌, ६५४ तमन्‌ भयात ५५।४।२ पसु ३६।८५४ 4४ त१२ 521৭4 9. त॑ तमनु ' भ २५ मन्ध तज (४ भुः 9. शानन्‌ नल अनापशपत्रामो समय क्षाज्य 3. छापनार असन सलरतानी ताड़ी६ नथपाह छे ने तब मुद्रयुरन्‌ येप्णु भयु ७, ५ अन्य ७० परढेवा खहार पाड़ी रहा लत, पयु सने इरणापशात्‌ को विश्षन थे। ७ १ ৫ হন 41051 ৮5৭, शताण्टिनापइना रेभारड जगे व? नाणां 5৮ হন ল यसे तमी तमना रयेत्‌ अश्म वपं भान शी ५२ समलातव ६टिख व्यवस्थित 3रेक्ष अथे। छपई। जने तहुपरांत ढैन भाहित्वनां परे {१५५ स५२ जभ्रडट पक्नो छे तेमांची उपक्गी भद्धत्वनां अधे। पर४ट थनार ४ ता সখ এ ৪২৮ % रेन इविशेदु' जपक्रश जने आयीन अगर अ्यसात्यि ५७६ रदु ४ ते আধ 5) সভধিন ভহথপু এন রখ দিরন। ই আদ খই স৪থ খানা ত হাহ व्यवस्था५५ হন 5145 খুডহা পভ, खरितिनाय३ श्रीमन्‌ আলাবমগ সাব) पाना आशा ঝিগাধু। গনী शे॥ १०७ शष। खारमेत्साथ्थी व्वेताम्जर भूत्तिपूरट केन्‌ समाग्धु प्रय सावता के अ अयुः ४ त समधम अभाएं। विशेष अगतिभान्‌ सने साम्या यतु सव्ररूत्‌ यञ्च रह सने तेना दता भदिष्मनी भव मेधीचता रह मे मनेवानी--स সস সফল उग्वानी ग्लवानदार वर्तमान भन्ते सि> ४, ৭1৭1 ৪6 थभे। छ, खात्मनिशुवना सिद्धंत जाण!। [দস ददी वत्वा छ, আহ स्प्शाकपना भ्यति पूर>ग्मेसथी यंजणाव छे, घरे३ पर्भा शांति जते গানে खेब्ताप्रल साधना उरी देशहितनी सभु6-प्रशत्तिभा হী ৮, ता वरनपर्माना भवुवायीओ तेम হইল) ৭15৪, শর হত, मने परताना झणे। स्वत्नति, धर्मा जने देशनी ठेसलतिमां जाप, (५ भभ ) 1५;




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now