डाक्टर | Daktar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : डाक्टर - Daktar

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विष्णु प्रभाकर - Vishnu Prabhakar

Add Infomation AboutVishnu Prabhakar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पहला श्रंक १७ पदा (जागकर) श्रभी जाती हूँ । भ्रभी (तेजी से जाती है । दादा एकदम कुर्सी पर गिर पड़ते हैं । कई क्षण सं्ञाहीन से न्य सें ताकते है । तभी निग होभ का सेवक रासु वहां भ्राता दहै । भस्त, चिन्ताहीच २० वर्षीय युवक, हाथ में श्राज की डाक है । ठिठकता है 1) राम्‌ दादा ! दादा 1 दादा (चौक कर तीव्रता से) वया है ? राम्‌ डाक है, दादा ! दादा यही रख दो । रामर जीहाँ। रख तो देगा ही । (रखता है) वह जो नया मरीज श्राया, हालत उसका ठीक नहीं । बराबर उल्टी, कै, वसन, डाक्टर कहता उसको” दौरा है । दादा ! दौरा तो घूमने को बोलता । उसका पेट घूमता... दादा (चीख कर) तुम नही जाप्नोभे रास जायेगा, दादा ! जायेगा नहीं तो श्रौर क्या करेंगा । पूरा श्राप ऐसा गुस्सा क्यो होता, श्रौर हम बता देताकि




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now