संस्कृत व्याकरण - मंजरी | Sanskrit Vyakaran Manjari

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : संस्कृत व्याकरण - मंजरी - Sanskrit Vyakaran Manjari

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्रीराम स्वामिना - Sriram Swamina

Add Infomation AboutSriram Swamina

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
गन पर रस्म शुनपर स्पानद+ चुन पर श+्पर गपाब्थ कप काट सदा दर देवा पद चुर्प ब्याह पड थुश्दू दुन्इदन कण थद बार दर चुडन मल पक शब्द बेर उनके मनाग्व घातु-सूची 1 श थागु इस शगणु हक न्क ३००. दान्योल ४१ 3० चाय +. हिएध दर ट् ० द्जि है अन्पर हक स्या- पर शान सर म्यार पड जे हदिय मव्पर गे इन रिपाए शट गाज २०० ड्च्द | द्पू के जकदल ३४ | इस 5९ उप 3. ड््ु ग् ड््ू न उ बट श्स ग्य पड तुर्पद दि्पर भांग घाड सात था शपथ डे शपून स्दाज ध्य- १-3 दुनप दे पर सर आाद बसे रद गटर गटर दर इन




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now