हिमकिरीटिनी | Himkireetinee

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : हिमकिरीटिनी - Himkireetinee

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about माखनलाल चतुर्वेद्दी - Makhanlal Chaturvedi

Add Infomation AboutMakhanlal Chaturvedi

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सरना क्रितने निर्जन मे दसा, रे मुक्त हार वाणी के। कवि, मंजुल वीरा-धारी, मां जननी कल्याणी के। किस निर्फारिशी के धन हो ? पथ भूले हो किंस घर का? है कौन वेदना? बोलो! कारण क्या करुणा-स्वर्‌ का? मेरी वारा की कटुता धो डाल तरल तारों से, मैं तुक-सा पागल हो के, बह उद्‌ नयन:द्वारे से | सात




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now