प्राकृत व्याकरण भाग 1 | Prakrit Vyakaran Bhag-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Prakrit Vyakaran Bhag-1 by प्यारचन्द्र जी महाराज - Pyarchandra Ji Maharaj

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about प्यारचन्द्र जी महाराज - Pyarchandra Ji Maharaj

Add Infomation AboutPyarchandra Ji Maharaj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
मूल~सूत्रणणः प्रात ज्याकरणस्य प्रथम पाद्‌ भप पाङृतम्‌ । १ १ ।बहुलम्‌। १२ ।झोप॑त है ३ वीष-इस्ती मिभो प्तौ १४ ।पदयो- समिम १ ४ [न युषस्यास्वे। १ ६ ।पदोरो स्वरे) १-७ ।स्वरस्योटू रोध) १-८ प्माये। १ ए ।ुकू! १ १५ ।भन्त्यम्यञजनप्म १ ११ न अदुद्ो। १ १२ निदु'रोबों। १ १३ ।स्वरेम्पर्प। ११४ खिमामादविघत' 1१ १५।२े स। १ १६ इषो हा। १ १७ ररदादेरत्‌। १ १८ ।विक्‌भाषपो स+ ,{ १६ ।भायुरप्सरसोषां। ११२० । ष्मो ९। १२] ।पनुपा षा। १-२२ ।मीनुस्बार। १ २१।वा स्वर म्भ! १ २४।इ-म-ण-नी भ्यर्‌ चने। १ २५।वष्टावा वन्त १-०६ फ्ल्या-स्पाविर्णस्दोषा। १ ७ ।्विशस्यादेललुऋ! १-८ मांसादेवा। १२५ । वेन्यो वा। दे? ।प्राधद- शारत्तरणयः पु सि! १३१ ।स्नमदाम शिणे त्म। १६२९ ।बाश्य्यं-भणनाग्या। है ३६ !गुणादया' बसीवे था! १ ६४ विसाम्जल्पाद्या' धियाम्‌) १ ३५ ।वादेराप्‌। १ ६६ !झतो को बिसगस्य। ? दंड निष्परणी श्मोत्परी पराश्प-स्पोभा। ! ६८।अपे। १ ३६ स्यदाद्पम्पयात्‌ पस्स्वरस्वं एुफ। १ ४०)पदादपेवां। , १-४१ ते प्राप्‌ ह्रद्ठिः। १४२ चुर पसव श-प-स शा-व-सां गरोप। १४२ । अत घमदष्यारो बा ।१ ४४ ।वथिगोहेः १४५ द स्वप्नारौ। १ ४६ ।पकाङ्गार-खलाटं वा। १ ४७ ।मप्यम-कतमो नीपस्य १ ४ ।पप्तप्े वा। १ ४२ ।मयन्यहर्वा) १४० प्रहरे षा १५१ प्वनि-विष्यचाड। १५२ ।बम्द्रश्रगिढते णा वा। (गये च) शप्प्रपमे पपोष १४५ पो णत्यै भिष्धारौ) १५६ ।एच्छस्यादी। ।वक्कमुष्कर-पयम्दा्पये वा १ भ [जझ्चर्य च। १५६ दोन्तरि। ११० ।भांस्प्य) १-६१ नमस्छार-परस्परे डिठीमस्य। ११२ ।वार्पी। [-ईडेननासपुनर्याशाई वा। ११५ ।वालाग्य एरय त्‌) ए ६१ ` षाभ्पयोस्लाठवाबवातः) १,६७ ।पम वृद्ध बा १ ९८ महाराष्ट्र) १६५ । माधादिष्वं नुस्वारे। १-४० श्यामाक स. १-७! इ:सबादो व! है ७२ ाचार्य चासउअ। १-3६ इ'स्त्यान-सबवारे। है ७४ पा सास्नाजताबक 1-४४ छितासर। १.५६ ।भरार्यामां यं ऋश्वाप्‌। १-५० ।पवूप्राघ्य। १-५८ (द्वारे वा। १८३. ।पारापतेरोणो। १-८ ।मात्रटि वा) १-८१ चवोद्ाहं। ८ ।भोवाश्तरों पंक्तो! १-८३ (हस्व संयोगे १ <. शत प्रा १ -तर (शद वा। १-८३ ।तिरायाम्‌) ९-८७ ।पविपधिवो अधिपु मूपिश्ठ-शरिद्रा-षिमीनकेष्वत्‌। १-८० ।शिमिलेज्ञते था! १-८ !तित्तिरी ९। १-६० !इतौतोवाश्यादो। १-९ ॥१3हा-पिदत्ररादिरातौत्या १-४२ लु किनिर । १-२१ दिन्योरत्‌। 1 ६” प्रबासीशी। रै+५ [युधिधिरथा। ९-१६ ।अोचड्रिपाकर:! १५५ घो निगप्रेमा। १-६८ हरीक्यामीतोत। १-९५ ।भातरमीरो १ १०० ।पानीयाविष्वित। १ १६१ ।उम्जीणें। १ १ + उकम विहीनबां १ १०३ सतोर्सेडि। १ १०४ एत्पीयूपापी ड-विमी तक-कीहरोहरो! है १०५ ननीद-पीठे वा। १ १०६ ।सतोमुझुद्ा दिप्वद। २ । १ १०।बोपरौ। १ १०८ रुरौ के वा। १ १ ६ ।इअँकुसी। गे १९० १५१ रॉ १९५७ ९ > स्नव 16४१




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now