जीवंधर चरित्र | Jeevandhar Charitra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : जीवंधर चरित्र  - Jeevandhar Charitra

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

पं. नत्थमल बिलाला - Pt. Natthmal Bilala

No Information available about पं. नत्थमल बिलाला - Pt. Natthmal Bilala

Add Infomation About. Pt. Natthmal Bilala

लालचन्द्र जैन - Lalchandra Jain

No Information available about लालचन्द्र जैन - Lalchandra Jain

Add Infomation AboutLalchandra Jain

शुभचन्द्राचार्य - Shubchandracharya

No Information available about शुभचन्द्राचार्य - Shubchandracharya

Add Infomation AboutShubchandracharya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(७) सबेया २३ कामिनि ढोलत हैं दसहूँ दिस नेवर घोर मचावन लागे । गावत ह मधुरे खुर सो पुनि कान क॑ ललचावन लागे ॥ शीत सुगंध समीर बहे तन लागत खेद बचावन लागे । फिर बन वीथिन भँ तिन देखत ही मन मोहन लागे ॥ ॥ दाहा ॥ तिन नगरनि के निकट ही, परी धान्य की राशि । शोभित है गिरबर किथौं, करत देव तेह बास ॥ अडिल्ल दोई ग्राम आराम नगर पत्तन किष । पवत शिखर मंभार महल पंकति लखे ॥ रौर ठीर जिनभवन अधिक शोभा धरे । ध्वजा शिखर फहराय लखत सुर मन हरे ॥ तहाँ मनोह सरवर निरमल जलसूं भरे । किधों संत पुरुषन के मन देंगे खरे ॥ तामें लघत सरोज श्रमर गुंजत फिरें । करे कलि नर नारि खेद तन के हरे ॥ दौर दौर उपवन सोह जु सुहावने । किथौं जियन के गुण राजत भन भावने ॥ उपजावत दँ काम कमल पग एग विषै। फल लन कर भरे इृक्ष लूमत लम ॥




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now