भक्तियोग | Bhaktiyog

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Bhaktiyog by अश्विनी कुमार दत्त - Ashvini Kumar Datt

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अश्विनी कुमार दत्त - Ashvini Kumar Datt

Add Infomation AboutAshvini Kumar Datt

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
भक्ति क्या है ६ इतने सुल चेनके सधन दिथे है, इसलिये उसके बदखेमे सुभे . उससे ' प्रेप रखना चाहिये” इत्यादि विचार सच्चे भक्तकै 'हृद्यमें स्थान नहीं पा सकते । संच्चे भक्तको ईश्वरे स्वा अन्य ` किसी भी पदा्थकी थ्लिकुल इच्छा नहीं होती। जो भक्ति भूतकाकिक उपकारो ओर भावी सदिच्छाभंपर अवलं बित रहती है वह कभी अहैतुकी नहीं हो सकती । उसमें खार्थका आभास रहता है! भहैतुकी भक्तिके शब्दसागरमें “बदला” शन्दका अभाव है । एक विद्वानका कथन है “मैं चाहता हूं, कारण कि, में चाहता हं ! तेरे सिवा अन्यकों साहना च एह- यानना मेरा स्वभाव नहीं है।” अहैतुकी भक्तिक्रा यही तात्पर्य है' और भक्तियोगकी यहीं पराकाछा है । यह तो हुई उत्कष भक्ति । इससे दीन श्रेणीकी भी भक्ति दोती है ययपि वह भक्ति इस संज्ञाके योग्य नहीं; तोभी उच्च भक्तिपर पहुवानेके लिये यह सीदियो$ समान सहायता करती है। इस सोढ़ीपर चढ़ना भी बड़ा कठिन के है! लेकिन तोमी किसीको निराश नहीं होना चाहिए | प्रथम सीदीसे श्ारंभ करके मी अभ्यास भौर अविश्नान्त उद्योग `करनेसे उश्च शेणीपर पहुंच सकते हैं । मनुष्योंकी उच्च तथा हीन श्रेणीकी शक्तियोंके निय्न लिखित दो भेद हैं-- १ रागात्मिका अथवा अहतुकी ( सर्वोत्कष्ट) २ बैघी--स्वाथमय अथवा गौणी ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now