साहित्य - पारिजात | Sahitya Parijat

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Sahitya Parijat by प्रतापनारायण मिश्र - Pratapnarayan Mishraरायबहादुर - Raybahdurशुकदेव बिहारी मिश्र - Shukdev Bihari Mishra

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

प्रतापनारायण मिश्र - Pratapnarayan Mishra

No Information available about प्रतापनारायण मिश्र - Pratapnarayan Mishra

Add Infomation AboutPratapnarayan Mishra

रायबहादुर - Raybahdur

No Information available about रायबहादुर - Raybahdur

Add Infomation AboutRaybahdur

शुकदेव बिहारी मिश्र - Shukdev Bihari Mishra

No Information available about शुकदेव बिहारी मिश्र - Shukdev Bihari Mishra

Add Infomation AboutShukdev Bihari Mishra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
३६ साहित्य-पारिजञात : वक्रय पृष्ठ सड्टर से माला दीपक में भिन्नता २३६ सारालङ्कार (४८) २३६ यथास ङ स्यालङ्का२(४६) २३६ पयय ( ५० ) 2 प्रथम पर्यायालऊकूर २४० द्विताय पर्याय २४२ पर्याय, विशेष श्रौर्‌ परिषि का भेद-प्रद्शन २४ हे অনু प्रथम तथा पर्याय में सेद २५३ ' परिवृक्त्यलड्भार (५१) २४३ 'परिवृत्ति में मतभेद २४३ पर्याय, विशेष और परिवृत्ति का भेद प्रदर्शन २४६३ परिदृत्ति के सेदों के विषय में मतभेद , देखो परिबृत्ति के लक्षण के नीचे ) २४३ परिसङ स्यालङ्कार (५२) २४६ पर्यस्तापह ति श्रौर परिसङ्ख्या का भेद-प्रदशन २४७ विकरुप ( ४३ ) २४७ विरोध तथा विकल्प में भेद २४७ ससुन्चयाल्लङ्कार (५८४) २४६ 'समुच्चय का सामान्य लक्षण ( देखो समुचय ) २४१ विषय पष्ठ प्रथम समुच्चय २४ ६ गुणों का उदाइरण (देखो प्रथम समुच्चय के लक्षण के बाद) २४६ क्रियाओं का उदाहरण. २५१ कारक दीपक और प्रथम समुच्चय में भेद द्वितीय समप्च्चय समुच्चय और संदेहवान्‌ का मेंद-प्रदशन समाधि और द्वितीय समुच्चय २.६७ २९१ २५२ ५ का पृथक्करण ^ २५३ प्रथम समुच्चय तथा पर्याय में भेद २१३ कारक दीपफ ( ५५) २४४ व्याकरणम कारक के प्रकार का ( लक्षण के नोचे ) २२४ ऋरक दीपक और प्रथम समुच्चय में भेद २२७ समाधि ( ५४६ ) २५७ समाध्यलड्भर और समुच्चय में भेद की २५७ समाधि आर प्रहषण में भेंदर ७६ प्रव्यर्नःकालङ्कार (५७) रश्म प्रत्यनीक कौ पृथक्‌ श्रल- मरता চি




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now