आत्म - कथा गांधी जी | Aatm - Katha gandhi Ji

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Aatm - Katha gandhi Ji  by हरिभाऊ उपाध्याय - Haribhau Upadhyay

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

हरिभाऊ उपाध्याय - Haribhau Upadhyay के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
किया-कराया स्वाहा ¶ ` बभर युद्ध के बाद संबाल करीव करीव डलं दौ गेया थां # वहां ने खनि:पीने ভি নাস ইহ गया था, न'पहुंनने-ओदूने ' के लिए कपड़े दो । बाज़ार खाली और . दुंकानें बंद मिलती था । उनको से भरता और खुली करना था, भौर वंह कामतो धीरे ही धोरे हो'सकता था और ज्यों-ब्यों माल आता जाता तो ही (यों' थे लोग जो धरवार छोड़ कर भग गये थे. उन्हें आने- दिया जा सक्रता-था इसे कोरण' प्रत्येक. ट्रांसेवाल-वासी”'फो' पखवानां लेना पढ़ता था। अब भोरे लोगों'तो परंबाना मांगते ही तरन्त मिल जातो; परन्तु हिन्दुस्तानियो को बड़ी मुंसीबर्त कां साता करना पड़ता था। “ ˆ 17 “लड़ाई के दिंनो'में हिंदुस्तान और लड्ढा से बहुतेरे अफसर ओर सिपाही दक्षिण आफ्रीका में आगये' थे। उनम से जो लोग चद वचनां चाहते ये' नेक लिए सुिधो कए ইলা म्रिटिंश'अधि- कांरियों का कर्तव्य माना) गंया था {इधर एक नधीन ` श्चधिकासीः मंडल कौ श्वना छन्द करनी थी खो ये शतुमवी कर्मवारी सदन ` ही उसके कॉम आगये । इन कर्मचारियों कौ तीव्र बुद्धि 'ने एंक' नये महकंमे की सृष्टि करंडांली और इस काम में थे अधिक पहुं तो थे हीः। हृत्शियों के लिए ऐसा एक अलग महकमा पहले हीः: से था”, वो फिर इन लोगो ने रकल भिदा कि एशिया-वासियों केलिः मी, ्नलग महता स्यो न कर लिया जाय सत्र उनकी ৮,51171 ৮৮071 $




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :