नवयुग का प्रभात | Navayug Kaa Prabhaat

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Navayug Kaa Prabhaat by थामस ए डुली एम डी - Thomas A Dooley, M D
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
65 MB
कुल पृष्ठ :
200
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

थामस ए डुली एम डी - Thomas A Dooley, M D के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
यचनों का निर्वाह १३उस उँगली का ऊपरी सिरा चोन की लाल हथेली में जुदा हो और आगे का सिरा कम्बोदिया और दक्षिणी वियतनाम में घुसा हुआ हो ।राजदूत सूवान्नावोंग ने चीन और बर्मा से लगे हुए उत्तर-परिचमी प्रान्त की ओर शारा किया । पहली बार मेरी नज़र उस नाम पर पड़ी, जो भविष्य में बार-बार मेरे मस्तिष्क में चक्कर काटनेवाला था । वह था एक प्रदेश का नाम - 'नाम-था ! ।उन्होंने कहा-“ उसे आपकी सबसे ज्यादा ज्रूरत होगी; लेकिन आप वहाँ जायें, तो आपको काफी खतरा उठाना पड़ेगा । 'नाम-था” सबसे अलग पढ़ता है । वहाँ के लोग गरीब हैं, रोगों का वर्ह राज है। राजनीतिक परिस्थिति नाजुक है; किसी भी परिचमवासी के लिए उसे समझना बहुत कठिन है। ”मेंने नक्शे को देखा और यह देख कर मुझे आइचये हुआ कि ' नाम-था ' उत्तरी वियतनाम के उस दर्दनाक शहर, देफोंग से पर्चिम, लगभग एक सीध में है । दूरी होगी लगभग पाँच सौ मील। १९५४ के जिनीवा सम्मेलन द्वारा तय की गयी शर्तों के मातहत दोनों पड़ोसी प्रान्त 'पाथेत लाओ” का अस्थायी अड्डा बन गये थे । और “ पाथेत लाओ? का नेतृत्व साम्यवादियों के द्वाथ में था। इसी सम्मेलन ने वियतनाम का विभाजन किया था तथा कम्बोदिया और लाओस को इंडो-चीन में “ तटस्थ ” बनाया था।मैंने कहा कि हम खतरा उठाने को तैयार हैं, परन्तु साथ-ही-साथ सावधानी बरतने का बचन भी दिया | राजदूत सूवान्नावोंग ने बड़े तपाक से हाथ मिलाया और मुझे आश्वासन दिया कि उन्हें मुझ पर पूरा विश्वास है।उन्होंने कहा-“ पहले भी कई बार गोरे लोग हमारी सहायता करने आये हैं ; परन्तु उसके पीछे हमेशा कुछ स्वार्थ छिपा रहता था ~ जेते उपनिवेश क्रायम करना, व्यापार करना, लोगों का धर्म-परिवतैन करना । परन्तु मुझे वास्तव में विश्वास है कि आपका उद्देश्य शुद्ध मानवतावादी है। इसीसे आपका दल मेरे देश में अनूठा रहेगा। ” फिर उनकी आँखों में एक चमक दिखायी दी और वे बोले - “ ह, मेरे कुछ देशवासियों को इस पर विश्वास करने में ज़्रा कठिनाई अवश्य होगी। ”हमारे मिशन को क़ानूनी मान्यता दिलवाने के लिए इंटरनेशनल रेस्‍्क्यु कमेटी ( अन्तर्राष्ट्रीय उद्धार समिति ) के अध्यक्ष, एंजियर बिडल ब्यूक ने हमें अपनी समिति के तत्वावधान मे छेने की ध्यवस्था की । सारे संसार में इस समिति का मान है । मेने एक बार फिर बैंक के भपने खाते पर गौर किया । अपनी पुस्तक ओर माषण-अभियान की कमाई में जमा करता आ रहा था। फिर वियतनाम के अपने




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :