एतिहासिक जैन काव्य संग्रह | Athihasik Jain Kavya Sangrah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Athihasik Jain Kavya Sangrah  by भंवरलाल नाहटा - Bhavarlal Nahta

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

भंवरलाल नाहटा - Bhavarlal Nahta के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
[>दासजी सेठ न्याय व्याकरणतीर्थ” ने कर देनेकी छपा की है; श्रीयुक्त मिश्रीछालजी पालरेचा महोदयसे भी हमें संशोधनमें पूर्ण सहा- यता मिली है। श्रीयुक्त मोहनछाल दलीचन्द देसाई 3..0.1..1..3. ( चकीर हाईकोर्ट, वम्बई ) ने भी समय समयपर सत्परामरच द्वारा सहायता पहुंचाई है । इसी प्रकार कतिपय काव्य उ० सुखसागर- जी, मुनिवर्य रत्नमुनिजी, लब्धिमुनिजी एवं जेसलूमेरबाले यतिवर्य लक्ष्मीचन्दुनीने और कतिपय चित्र-ब्छाक विजयसिंहजी नाहर, साराभाई नवाव, सुनि पुण्यविजयजी आदिकी कृपासे प्राप हुए है, एतदर्थं उन सभी, जिनके द्वारा यत्किच्ित भी सहायता मिली हो, सहायक पूज्यों व मित्रौके चिर कृतज्ञ है । निवेदक-- अगरचन्द नाहटा, भंवरखार नादय ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :