दर्शन- परिभाषा-कोश | Darshan Paribhasha Kosh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Darshan Paribhasha Kosh by डॉ. गोवर्धन भट्ट - Dr. Govardhan Bhattहरबंशलाल शर्मा - Harbanshlal Sharma
लेखक : ,
पुस्तक का साइज़ : 4.63 MB
कुल पृष्ठ : 436
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ. गोवर्धन भट्ट - Dr. Govardhan Bhatt

डॉ. गोवर्धन भट्ट - Dr. Govardhan Bhatt के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

हरबंशलाल शर्मा - Harbanshlal Sharma

हरबंशलाल शर्मा - Harbanshlal Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दर्शन-परिभाषा-कोश साफएटपंबश्वे 5ड0टांडा मॉफिकटपेंघषि€ तस्‍ीपिपि0त शपि्रह्पी0आ बधि0डश्शश55 संक्षिप्त न्यायवाक्य बहू न्यायवाक्प जिसकी एक या दो प्रतति- शप्तिया सुगम होने के कारण व्यक्त न की गई हों । उदाहरण --मनृप्य मरणशील है श्र क एक मनुष्य है । यहा निंप्कर्ष क मरणशील है व्यक्त नहीं किया गया है । संक्षेपक प्ररिभाषा गणित्तीय तकंशास्त्र में वह परिभाषा जो यह बताती है कि श्रमुकः प्रतीक झमुक सूबे का संक्षिप्त रुप है. और उसके स्थान पर प्रयुक्त होगा 1 झपगमन 1. श्ररस्तू के तकंशारुत्र में बह न्यायबाक्य जिसमे साध्य-ग्राधारिका सत्य होती है किन्तु पक्ष-श्राघारिका केवल प्रसंभाध्य होती है श्रौर फलत निप्कर्ष भी प्रसंभाव्य हो होता है । 2. पे फल के अनुसार तर्क का एक प्रकार जिसमें तथ्यों के समूह विशेष से उनकी ध्याद्या करने वाली प्रावकल्पना प्राप्त की जाती है । अजीवात्‌ जीवोत्तसति यह मान्यता कि जड़ पदार्भ जोवों का प्रादुमीव होता है ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :