सर्वदर्शन संग्रह | Sarva Darshan Sangrah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sarva Darshan Sangrah by उदयनारायण सिंह - Udaynarayan Singh
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 15.85 MB
कुल पृष्ठ : 308
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

उदयनारायण सिंह - Udaynarayan Singh

उदयनारायण सिंह - Udaynarayan Singh के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दु्नम भाषदीकासमेतः । ५ #-.___ ५ ५ #९५ ७ कर लि वद्धि #... 3 जृहरुपति कहताहि कि तीन वेद यज्ञोपवीत और भर्मछेपन ये सब वुद्धि और तरुपहीन च्यक्तियॉकी जैविकामात्र है ॥ १३ ॥ अत एवं कण्टकादिजन्यं दुःखमेव नरक॑ लोकसिद्धौ राजा पर- सेश्वरः देदोच्छेदो सोश्षः । देहात्सवादे च कृशो5हं कृष्णोह- सित्यादि सामानाधघिकरण्योपपत्तिः । मम शर्रिरिमिति व्यव- हारो राहोः शिर इत्यादिवदौपचारिकः ॥ १२ ॥। इससमय मकृतसिंद्धान्त यह है कि कण्टकादिके छिये दुःखही नरक है ठोकमसिद्ध राजाही परमेदवर और देहत्यागही मुक्ति है । देहहदी आत्मा है । इसमतको माननेसे में कु और से कृप्ण हूं इसमकारके वाक्यकी अर्योपपत्ति होसकतीहैं । देह और आत्मा विभिन्न हो- नेहे कुदाव्यक्ति में कूद एवं कृष्णवर्णपुरुष मे कृष्ण इसप्रकार नहीं कहसकते । यदि देहही आत्मा हुआ तो मेरा शिर इसमकारका व्यवहार किसमकार सम्भवित होसकता इसका उत्तर यहहै जो--निसमकार राहु शिरभिन्न कुछमी नहीं तथापि राहका शिर इसमक र का उपचार प्रसिद्ध है उस मकार देह और आत्मा अभिन्न होनेसे मेरा डिर इसपमकार उपचार होसकताहे ॥ १९ ॥ तदतत स्व समबाहि अत्र चत्वारि यूतानि भूसिकास्बनला- सलाः । चतुस्य खु भूतभ्यश्वतन्यसुपजायत ॥ १३ ॥। विषय सब संयहकर कहाहे कि इस जगतमें भूमि जछ वायु ओर अग्नि येही केदख चार भूत है इन्हीं चारमूतासे चेतन्य उत्पन्न होताहैं ॥ १३ ॥ किण्वादिम्यः समेतेभ्यों द्व्येस्यो सदशक्तिवत्‌ । अं स्थूलः शा5स्मात सामानाघकरण्यतः ॥ १४ ॥ देह स्थोल्यांदि गाझ्च स एवात्या न चापरः । सम देहो5्यपित्युक्ति सम्भवे- दोपचारिकी इति ॥ १५ ॥ ससमकार मदवीं कणा रुच मिंटकर ही मध्यम मादकता थाने मार भूत सद एव होनिपर उसमें चतन्य उत्पन्न होसकना है । दे श्ज डी के व अलग




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :