कृष्ण-गीता | Krishna - Geeta

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कृष्ण-गीता - Krishna - Geeta

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दरबारीलाल सत्यभक्त - Darbarilal Satyabhakt

Add Infomation AboutDarbarilal Satyabhakt

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
तेरहवों अध्याय पर की आँखों में जगत तब क्यों डाले घूछ। जव ईश्वर है देखता दंड--अनुग्रह--मूल ॥३०॥ शद्धा खर पर रहे रहे परस्पर प्यार | दिग्ब न पड तत्र जगत म चोरी या व्यभिचार ॥३६॥ श्रद्दा इंधर पर नहीं और न उसका ज्ञान | হালি है प(पमय यह संसार महान .॥३५७॥ गीत २८ जगन तो भूछा है भगवान । हुआ दै छटनापय गुणगान ॥ - जगत अगर जगदीडा मानता । यदि अमोध फख्दान जानता | तो क्‍यों फिर विद्रोह ठानता । [ ६:०७ क्रा हाता इय धरणीतल पर प्रपा कां सन्‍मान | जगत तो মুক্তা है भगवान हुआ है छलनामय गुणगान ॥३८॥ यदि होता विश्वास हमारा - 1 ईश्वर-व्याप्त जगत है सारा | तो असत्य क्‍यों छगता प्यारा ॥ तरल झोकते क्‍यों पर की आँखों मे हम नादान जगत লী भरा है भगवान 1 1 हआ दै छडनामय युणगनि ॥२ ८,॥ -प दुनिया को क्या अन्ध बनाया । जब जगर्दाश्वर भूछ न पाया ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now