अपलक | Apalak

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : अपलक - Apalak

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about बालकृष्ण शर्मा - Balkrishn Sharma

Add Infomation AboutBalkrishn Sharma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
थक्ित सागरुज्य याञ्चा फिर वही क्या न सुनोगे विनय हमारी ! उड़ गए तुम निमिष भरम तेरा मेरा नाता स्याह! पण्ढ सिहाबलोकन सखे ! हम हैं मरत फक्कीर भिय, त्वम-मय कर दो मम तन-मन प्राण, तुम्हारे कर के कंकण सजन, करो सन्तत रस-वषेण तुम न आना अतिथि बनकर मेरे भौन लगी आग आओ, प्रिय हृदय लगो मेरा क्या काल कलन ! बदु रहा दै भार मेरा आा जाओ, प्रिय, साकार আলী विस्मरण सखि, वन-वन घन गरजे तिमिर-भार अस्तित्व-नाव नयनन नीर भरे निराशा क्यो हिय मथित करे ९ घन-गजेन.ज्ञण पलक चख चमक भरो ५६ ५८ ६० ६२ ६४ ६६ ছল ७१ ५७४ ७६ নে ८२ ८४ ८६ ८८ ६९ ६४ ६६ ६य १०० १०३ १०४ १०७




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now