सत्य उपदेशमाला | Satya Updeshmala

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : सत्य उपदेशमाला  - Satya Updeshmala

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about राजपाल - Rajpal

Add Infomation AboutRajpal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(८) सुंसलमान ने ओप पर थार किया। 'छुरे से &ः ज़्द़म किये, परन्तु ईश्वर जनं चचा ली । ६ श्र्वदवर १६२७ को सी दुकान पर “अब्दुल प्रज्ञीज” ने हमला किया । चह भूंज से स्वामी 'संत्यानन््‌ जी मंहाराज पर हो गंया | भाप बच गये, पंरन्तु यह भूख, मतान्ध लोग कय गवारा फर संकते थे कि एक आयेबीर ইহা, অম ध्रौर जाति कौ सेवा कर सके । ६ अप्रैल १४२६ पी दो बजे दिन के “इलमदीन” नामक त्रखान नौजवान ने श्रय पर दुकान के परन्दर धे हुए ध्याकरपरण किया । छुरा ऐसी तेंज्ञी ओर बल से कछ्वाती पर भारा, कि तत्त्रण भाण पसर शसीर से झड़ गये और धयाप हमेशा के लिए हम से जुदा हो गये । आप के पीछे आप की धर्मपत्नी और बहुत छोटे २ রই यथ्ले निःसद्याय रंह गए हैं। आप ी माता बहुत লিন श्रौर घयोचद्ध हें, जो पुत्र के शोक में निमग्न हैं। ` दिकं सम्बन्धी सय भकार की पुस्तकें | मिलने का पता-... . राजपाल पएरड सनन्‍्ज़, : सरस्वती आश्रम, अनारेफेली; लाहोर ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now