हे बच्चो तुम्हें प्रणाम | He Baccho Tumhen Pranam

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
He Baccho Tumhen Pranam by श्री व्यथित हृदय - Shri Vyathit Hridy

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री व्यथित हृदय - Shri Vyathit Hridy

Add Infomation AboutShri Vyathit Hridy

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
एक गुरु-भक्त वालक बासक एरसप्य मिट्टी की गुरुन्मूति बनाकर, जिसने सीसा बाण चलाना । सीखा जिसने गुरु-चरपों पर, थी अँजुलो को भेंट चढ़ाना। एकलव्य यह्‌ वोर प्रतापी, बालक बड़ा निरासा था। जन्मा भील ज्ञोंपड़ी में या, घरती का उजयातला पा ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now