देशी राज्य शासन | Deshii Raajy Shaasan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Deshii Raajy Shaasan by भगवानदास केला - Bhagwandas Kela

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भगवानदास केला - Bhagwandas Kela

Add Infomation AboutBhagwandas Kela

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
विषय सूची पहला भाग पहला अ ध्याय बिषय प्रवेश साधारण परिचय-- देशी राज्य” का अथ--“चीफ! और “प्रिंस!-- दरवार--देशी राज्य मारतवर्ष में अभिन्न अंग हैं । पृष्ठ १--६ दूसरा अध्याय राज्य सम्बन्धी भारतीय आदर्श प्राचीन भारत में प्रजातंत्र--राजतंत्र--आरय सम्राट्‌ और उनकी नीति--रजश्रों की स्थिति-राजाके कतेव्य-रजाश्रों मे विकार; मुसलमानों का शासन--श्रं गरेजों का आगमन--भारतीय आदर्श; राम राज्य--म० गाँधी के विचार । पृष्ठ ७--१४ तीसरा अध्याय देशी राज्य ओर कम्पनी भारतव में अंगरेजी राज्य की स्थापना--राज्य-विस्तार--कम्पनी की नीति--कुशासन और असंतोष--कम्पनी का श्रन्त--श्रंगरेजी राज्य को स्थापना का परिणाम | पृष्ठ १४--२ १ चौथा अध्याय सन १८५४७ के बा द्‌ भारतीय शासनपद्धति में परिवर्तन--राजाश्रों की वफादारी--




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now