श्री कबीर भजन माला | Shri Kabirbhajanmala

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Shri Kabirbhajanmala by खेमराज श्री कृष्णदास - Khemraj Shri Krishnadas

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about खेमराज श्री कृष्णदास - Khemraj Shri Krishnadas

Add Infomation AboutKhemraj Shri Krishnadas

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
' ४ श्रीकषीरभननमाला । पापी अनेक तारके भवपार उतारे ॥ महिमा अनन्त आपकी कोई न कहसके । यह जानि भेद वेद नेतिनेति उचारे ॥ अब वेगि मोहि दीजे दशेन कृपानिध | होय अतिअधीन द्वीन धम्मेदास पुकारे | २॥ गजल । बिनती मेरापे ध्यान जो है तुम्हारा नहीं । आश्रित क्या दास आपका मै विचारा नहीं।2° में तो अनाथ मेरे कौन दूसरा धनी १ । एक छोड तुम्हें और मुझे सहारा नहीं ॥ मैरी तो दौड फक्त तुम्ही तक कृपानिधे । तीनों भवनमें और कहीं गुजारा नहीं || कई एक दफे जो आफते भक्तोंपे आपडीं तां आपने क्या उनके दुखको निवारा नहीं १ || क्या मु्लसरीके पातकी तुमने कमी कोई ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now