रत्नत्रय-चन्द्रिका भाग-1 | Ratnatraya Chandrika Bhag - I

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Ratnatraya Chandrika Bhag - I by आचार्य समन्तभद्र - Acharya Samantbhadra

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about आचार्य समन्तभद्र - Acharya Samantbhadra

Add Infomation AboutAcharya Samantbhadra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अशुद्ध शुद्ध पृष्ठ पंक्ति अपने आपने ४० २१ पाया भी पाया ४० २७ उचित दै उचितदै। ४१ ६ हौना হানা ४१ म्र होता है होता हैं। ४१ यम ३६ ६६ ४१ १ दि० भवित्व भावित्व ४२ २ है है ४२ ३ भाव है भाव है। ४२ ९० करनेका पूर्णकरनेका प्रयत्न करनेका प्रयत्न ४९ १७ सम्यण्दर्शनादिको सम्यदशनादिकी ४३ ९ दोनातीदहै होजाती है फि ५३ ५ है किन्तु है। भिन्तु ४३ ७ न्यत्व न्यत्वं ४३ १ (टि) धमका धरा ४४ ७ आस्तिक्या शआस्तिक्य ४७ ७ प्रमाणरूप प्रमाणरूप--- ४७ १७ अर्थशुद्ध श्रथ--शुद्ध ४७ १७ गुरुके गुरुकी ४७ २० कि अभिषेय कि आगमके अभिधेय ४७ २१ रागाता रागादीना ४७ १ (टि) कीया किया উল ই হব लच्य দে अनायत्तनोका९ अनायतनीका२ (टिण्पर०४६ मे) जाय जाय | ४६ २ तप तप । ६ ७ योके यांकी ४६ ৬ विशेध निरोध ४६ ५ हे दै 1 ६ টা इन ' इसके ४६ ७ दन जिस तरह ४६ ध के के जो ६ [द यद्‌ ये ५१ १० अयुक्त अयुत ५१ १६ बताया बनाया ५१ य्‌ प्रमतान्ता प्रमन्तान्तान्यगां ५१ २ (दि) अन्यगा `चेष्टालुमतै; वचेष्टातुमितैः ५९ अशुद्ध शुद्ध पष्ठ ५ 1 २ कारण करण ঠল লি निम्नन्थकी भ्ल तरह तरहका यं मेदा भेदके ५९. है । है ५६ एसे ऐसेही ५६ आन्तक आतंक ০ न्तका अन्तक- ६० प्रतीत प्रतीति ६० कायरता कायरता एव ६१ कातरता न्‍ कायरताके कातरताके ६९. ` दुष्टान्त दश्टान्त ৪» शास्त्र शास्त्रे ६२ का के ६४ क्योकि क्योंकि वह ६४ उनके उनघातिकर्मो ६४ सकता सकता है. ६४ कारण है. कारण, হও उपसग उपकस्षगं 6०४ अर और ६७ प्रकरण _प्रकरणश. ६८ तीनो तीनो'से ৩০ तरह तरह विचार ७० अधिक है. हे ७२ आगमको अभावको ७ हीनादिको दीनाधिको ७२ विचारणीय प्रथम ५७२ प्रथम विचारणीय तरह तरहकी ७३ अपने अपनी. ७३ दमारी মাহী ওই नहीं है... -नहीं है ४ ७४ उत्तको उनकी ७६ तोर्थकर तीर्थ-- ५७ हे । हैकि ७५ अनात्मानम्‌ अनात्मार्थम्‌ ७६ २४




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now