शाद्वल | Shadwal

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : शाद्वल  - Shadwal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about लालधर त्रिपाठी - Laldhar Tripathi

Add Infomation AboutLaldhar Tripathi

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
रादरल किसने मोती के हार पिन्हा सायं-प्रातः निमेष-रष् देखा, करता ही रहा नित्य अहरह अट्ट श्रालोक-वृष्टि १ किसके गीले वे अन्तस्तल ! ्राशाऽभिलाष, दुख) देन्य, ताप, चिन्ता, आकुलता, मर्मोञ्ज्वल जिसके तुम एर, अप्रमाण शत-शत रूपों में पड़े निकल ! वह कौन विकल ! जिसके उच्छ वास-श्वास पागल ; तुमको लहरा जाते प्रतिपल , जग देखा करता रूप - राशि आनन्द-मुग्ध, नत-नयन अचल ! हे, जिसके मम्मोघात देख बन निर्निमेष जाते कितने पाषाण पिघल, वह कोन विकल ९ प्रो, भ्रिय शाद्रल !! দ-+8০




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now