अतिमुक्त | Atimukti

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Atimukti by गणेश - Ganeshराज कुमारी बेगानी - Raj Kumari Begani

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

गणेश - Ganesh

गणेश - Ganesh के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

राज कुमारी बेगानी - Raj Kumari Begani

राज कुमारी बेगानी - Raj Kumari Begani के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
अन्त में माता-पिता की आज्ञा प्राप्त कर अतिमुक्त गुरु के पाम चला गया ।दिन पर दिन वीतते गए । एक दिन अतिमुक्त अन्य श्रमणो के साथ भिक्षा के लिए नगर की ओर जा रहा था | वर्षा ऋतु थी | कुछ অময দূল ही मूमलाधार वर्षा हो चुकी थी। ज्वार के खेत के बगल से निकलने वाले नाले में पानी वह रहा था। और एक ध्वनि आ रही थी कल-कल कल-कल | ध्वनि कान में पड़ते ही अतिमुक्त सहसा खड़ा हो गया | हलहरों की ध्वनि सुनकर उसे अपने बचपन की एक वात याद आ गई | उस दिन भी ऐसे ही नाला उमड रहा था एवं ऐसी ही कल-कल ध्वनि आ रही थी । बह उस पानी में कागज की नाव तेरा रहा था और चम्पा भी अपनी नाव तेरा रही थी । उसकी नाव तो तिर गयी किन्तु चम्पा की नावन जाने क्‍यों पानी के बहाव में उलट गयी | किन्तु कितनी दुष्ट थी चम्पा ! कह रहो थी कि अतिसुक्त की नाव डूब गयी है, उसकी नहीं। अतिमुक्त ने उसे एक थप्पड़ मारते हुए कहा था, यह झूठ है ।झूठ ही तो था !अतिमुक्त संभवतः अपने को भूल बठा | वह धीरे-धीरे नाले की ओर बढ़ा | लकड़ी का भिक्षापात्र पानी में तेरा कर वह देखता रहा और बड़बढ़ाता रहा, यह झूठ है । वह देखो मेरी ही नाव तेर रही है ।भ्रमणगण अतिमुक्त की यह दशा देखकर आश्चय-चकित हो उठ ।अतिमुक्त ४




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :