नये रंग : नये ढंग | Naye Rang Naye Dhang

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Naye Rang Naye Dhang by लक्ष्मीचन्द्र जैन - Laxmichandra jain

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about लक्ष्मीचन्द्र जैन - Laxmichandra jain

Add Infomation AboutLaxmichandra jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
राजेन्द्र बान एक वर्ष और पूरा हो गया जो दूसरा शुरू हुआ हैं वह भी एक दिन इसी तरह पूरा हो जायेगा । और फिर तीसरा, फिर चौथा”! पुराणोंमें कहा है कि स्वर्गमें देवताओंकी अवधि ज्यों-ज्यों चुकनेको आती है, गलेकी माला मुरझाने लगती हैँ । एक-एक फूल कुम्हलाता है और हृदय मुरझाता जाता है । एक दिन सब राज-पाट, वेभव, यशोगान समाप्त हो जाता हैं। पर, फिर उनकी आयु भी तो समाप्त हो जाती है। जन- तन्त्रवादका यह्‌ कंसा अभिशाप ह कि केवल राजपाट, वभव ओर यशोगान ही समाप्त होता हं, व्यक्ति समाप्त नहीं होता ? जब रजामोका एकंछत्र राज्य होता था, तो वे अपने पुत्रको राज्य- जो वे स्वयं न कह पाये ! ११




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now