श्री महावीर निर्वाण स्मारिका | Shree Mahaveer nirvan smarika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Shree Mahaveer nirvan smarika by महावीर नवयुवक मण्डल - Mahaveer Navyuvak Mandal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about महावीर नवयुवक मण्डल - Mahaveer Navyuvak Mandal

Add Infomation AboutMahaveer Navyuvak Mandal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पा ज्योति पुञ्ज जीवन के --सारादस तिधिरोधः बचपन के तुम वद्ध मान थे, सन्‍्मंति थे तुम 'यौवन के, ज्योति पुझ्ज थे अखिल विश्व 'के, दर्शन थे जग-जीवन के, जहा विरोधाभास खड़े थे, श्रौर श्रसंगति मुह बाएं थी; जहाँ -टूटते मूल्य देखकर, मानवता भी श्रकुलाए थी, भ्रधियारे की बाहुपाश मे, सिमट रही थी समी दिशाए; जहाँ विषमता ग्रौर विफलता, भ्राठ पहर थी दुखी तृषाए, वहाँ एक तुम ज्ञानोदय थे, -ती्थ.कर -ये सकल भुवन के; जहां ज्योति का श्रौर तिमिरका, हरक्षण॒ -युद्ध चिंडार -हता था, ভি গীহ ভুল ঘনঘ रहे थे, सत्य. यातनाएँ सहता था; सत्य, श्रहिसा और আসান, त्याग मादव, सयम, तप के, लक्षण दिए जगत को तुमने, कष्ट हरे मन के श्रातप के; तुम तो होकर रहै महनिश, पथ प्रदशेक जग-गण मन के । १५




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now