फल - तरकारी परिरक्षण प्रौद्योगिकी | Phal - Tarakari Parirakshan Praudyogiki

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : फल - तरकारी परिरक्षण प्रौद्योगिकी - Phal - Tarakari Parirakshan Praudyogiki

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हरीशचन्द्र शर्मा - Harishchandra Sharma

Add Infomation AboutHarishchandra Sharma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
छा) विशिष्टताएँ 89, श्राघुनिक काँच निर्माण 90, विविध ढवकन 90, कुछ अन्य ढक्कन 91, काउन काके 91, टिन बाहिकायें 92, टिन कंनों का निर्माण 94, शौर्ष सुला कंत 95, झ्राघुनिक केन निर्माण 95, काया निर्माण 95, संस्तरावरोध 95, संकीकरण 97, विशेष लैकौकरणं 97, लैकीकरणा फा प्राविष्कार 98, कंन तथा परिमारा98, मेटल, मेटल না कम्पनी तया उसका योगदान 98, ऐल्युमीनियम वाहिकायें 100, प्लास्टिक वाहिकायें 101. परिरक्षण कारखानो छौ श्रावश्यकता पूजी 103, कारखाना विन्यास 105, फल उत्पाद कारखाने की स्वास्थ्य सम्बन्धी भ्रावश्यकताएँ 108, जल तथा उसकी प्रावश्यकता 109, कारखानों की श्रेणी तथा झअनुज्ञा-पत्र शुल्क 114, टेवनीकल स्टाफ तथा प्रयोगशाला की प्रावश्यकताएँ 115, मशीनों तथा उपस्करों कौ न्यूनतम आावश्यकताएँ 115. भाग-2 परिरक्षण प्रणालियां श्रत्प ताप परिरक्षण रिफ्रिजिरेशन (प्रशीतन) तथा शीत गोदाम प्रशीतन 121, संक्षिप्त इतिहास 122, प्राकृतिक प्रशीतन 123, हिम द्वारा प्रशीतन 123, लवण हिमकण मिश्रण 123, प्रशीतनीकृत वाहन 124, लवण घोल गुरुत्वीय प्रवाह व्रिधि 124, शुष्क हिम विधि 125, शुष्क हिम करो द्वारा प्रशीतनीकृत वाहने 126, सिलिका जेल द्वारा प्रशीतन 126, স্লিম श्रथवा यान्त्रिक प्रशीतत 127, विभिन्न याम्त्रिक प्रशीतन विधियाँ 128, विविध प्रशीतक 129, शीत ग्रोदामों का तापमान 130, पूर्व शीतलीकरण 130, क्षेत्रीय ऊप्मा या संवेध ऊष्मा 130, जंव ऊष्मा 131, पूवं शीतलीकरण का महत्व 131, प्रडं शौतलीकरएा समय 131, हिम टिकियो द्वारा 132, जल द्वारा 132, निर्वात विधि द्वारा शीतली- करण 132, वायू परिसंचरण 133, शीत गोदामों में पंकेजों का क्‍्न्त- रालन 133, श्रापेक्षिक ग्राद्रेता 134, ताप उपापचेय तथा तापस्थिरता आदि 135, आहार तथा आपेक्षिक ऊष्मा 139, झ्ापेक्षिक ऊष्मा 139, ऊष्मा घारिता 139, प्रशीतन भार गणना 140, शीत गोदामों में सफाई तथा शुद्धता 141, प्रशीतन सम्पूरक 142, नियन्त्रित वातावरण संचयन 142, रासायनिक उपचार तथा घूमीकरण 143, मोम लेपन 144, प्रणु विकिरण 144, संरक्षण पेकीकरण 145, प्रशीतन से होने वालौ क्षति 145, द्ुत शीतन क्षति 145, हिमीकरण क्षति 146, अमोनिया ह. 149, प 103 121




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now