महावीरा | Mahaveera

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Mahaveera  by किशनचन्द जैन - Kishan Chand Jainतिलकराज जैन - Tilakraj Jainनरेन्द्र भानावत - Narendra Bhanawat

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

किशनचन्द जैन - Kishan Chand Jain

No Information available about किशनचन्द जैन - Kishan Chand Jain

Add Infomation AboutKishan Chand Jain

तिलकराज जैन - Tilakraj Jain

No Information available about तिलकराज जैन - Tilakraj Jain

Add Infomation AboutTilakraj Jain

नरेन्द्र भानावत - Narendra Bhanawat

No Information available about नरेन्द्र भानावत - Narendra Bhanawat

Add Infomation AboutNarendra Bhanawat

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
जानकर अत्यन्त प्रसन्नता हुई कि आप दीपावली पर एक सुन्दर स्मारिका प्रकाब्नित कर रहे हैं जिसमें भगवाव महावीर एवं जेंन दर्शन पर विद्वानों के लेखादि होंगे। आपकी योजमा स्व॒त्य हें । भ्रगवाब महावीर के बताये हुए रास्ते से आज हम लोग भ्रटक गये हँ । उन के चितन फो जीवन में ईमानदारी से उतारने की आन अधिक आकयकदा महसूस की ना रही हैं | विजेषत: बुद्धिजीवियों के लिये आपकी स्मारिका दिघरा भूचक व प्रेटणादायीं होगी, एसी आप्रा दै । [+ + ६ दरस पुनीत कर्य के लिए व्रुभाप्रीर्वाद 1 विजयेन ছিল নহি (इन्द्र सुरि)




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now