नवीन शिक्षा आयोजन | Naveen Shikshs Aayojan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Naveen Shikshs Aayojan by राजकुमार जैन - Rajkumar Jain
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
2 MB
कुल पृष्ठ :
100
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

राजकुमार जैन - Rajkumar Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पपरा क्षेत्र( क्या है और क्या बन सकता है )खा फाल था | पपौरा के निकट का रमन्ना ( रक्षिपत भरण्य ) दमारे यहां से चार मील दूर दै। दम तीन आदमी- श्रीयुत यशपाल जैन बी० ए० एल'एल० बी०, पं० राजकुमारजी स्राहित्याचायं श्रोर में--कुण्डेश्वर से उक्त बन की ओर रवाना हुए और प्रातःकाल की शीतल मन्द समीर का आनन्द लेते हुए ढेदु घण्टे में वन के निकट जा पहुँचे । इस बन का क्षेत्रफल आठ बगे मोल है और कदी-कदीं पर यह्‌ काफी घना हो गया हैं। स्रणं-ग ( चौतल ), सांभर, जंगली सुअर ओर तेंदुआ इस जगल में पाये जाते है। चुकि इस वन में शिकार खेलन की मनाई है, इसलिये ये वन्थपशु बहां खाधीनता-पृवक विचरण करते रहते हैँ। उस दिन भी हमें झाठ-नो बीतल ओर पांच सांभर दोख पड़े। उंदुआ देखने की लालसा “मन की मन के নাহি ব্ধী।?हम लोग वन-अमण का भानन्द ले रहे थे भर शिक्षा तथा संकृति सम्बन्धी वार्तालाप करते जाते थे एक जग आंवले ओर ढाक के वृत्त साथ ही साथ दीख पढ़े | हमारे एक मित्र ने, जो वैध हैं ओर साहित्य-प्रेमी भी, कहा था कि कायाकल्प के लिये ऐसा स्थान उपयुक्त माना जाता है, जहां ढाक तथा आंवले के वृक्ष आस-पास उगे हुए हों झोर उन्हीं के निकट कुटी बनाई जाती है। इमने कहा तब तो इस बन में बीसियों व्यक्तियों का कायाकल्प हो सकता है । वस्तुतः वनों का लीवन ही काया-




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :