प्रमुख देशों की शासन प्रणालियाँ | Pramukh Desho Ki Shasan Pranaliyan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Pramukh Desho Ki Shasan Pranaliyan by ब्रजमोहन शर्मा - Brajmohan Sharma

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ब्रजमोहन शर्मा - Brajmohan Sharma

Add Infomation AboutBrajmohan Sharma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
( ६ ) 4 आधुनिक फाल-- सन्‌ १८७४ का शासन-पिधघान--सन्‌ $झ०४ के शासन-विधान का रूप--संविधान की प्रमुख विशेषताएँ--शक्ति विभाजन -केर्द्रीय सरकार की शाक्तियाँ --संघ सरकार की श्राय--संघ विधानमण्डल--द्विगुद्दी विधान मंदल -निचला सदन--सदस्यों की योप्ता- सदेन का समापति--दूसरा सदन -सदस्यों की प्रवि सदस्य का येतन--समभापवि--संघ विधान-मंडल को यनिया- सम्मिलित र्वटके- विधान मंडल. के उन्तेख-पन-- सदस्यं फी योग्यता-- सेद ष्टाय॑पालिका--केडरल कौसिल फो वनातर- বিনা शक्ति ছা अध्यक्त-फेडरल फौंसिल की कार्यवादी-- भरशासन विभाग - फेडरल फौंसिल का कार्य संचालन-विधान मण्दल वो अजुत्तर दायो--कौंमिल के प्रभाव के बारे में आइस का मत-फेडरल फौंसिल को सफलता -चाॉपलर-संध न्यायपालिका, इसकी थनावट, हसका अधिकार प्षेत, न्यायपालिका की कार्यप्रणात्री -- राजने तिक पत्त -- दखवं दी की भावना का श्रमप्व पुराने पद--घवंमाने रजर्म तिरू पत्त --शासन- विधान का संशोधन --दो प्रकार छा परिवर्वन-यांशिरु संशोधन--विघान संशोधन के लिये लोकनिर्णय श्रनिवाय --केंदनों की सरकारें--कैंटनों में अध्यक्ष जनवैत्र--केंटनों के विधानमयडल्व-- शासन विधान का सशोधन -- केन्टनों की कार्यपालिका--फैटनों को न्‍्यायपालिया--केंटनों में स्थानीय शाप्तन-केंटनों में शिक्षा-प्रत्यक्ष जनतन्ध (12176५६ 1)0010- ००) ~ स्विटूनरलेढ मत्यत्त जनवन्त्र ङा धर है --संघ में लोक निर्णय-- केटनों में लोक नि्एंय--लोक निर्णय की गुण-दोप परीक्षा-मतदावाशों की श्रयोग्यता -लोक निर्णय से लाभ--संघ में अधिनियम उपक्म -- कैंटनों सें अधिनियम उपक्रम - जनवन्य के सम्बन्ध मे स्वि दटिकोय ~ आधधनियम उपकम के दोप--अ्रधिनियम उपकम के समर्थकों की विचारधारइ-पादूय घुम्तकें-- १६. सोषियट रूस की सरकार । ४२७ शासन विधान का इतिद्नस--ड्यज़ा को चलाने चा प्रथम श्रयत्न--ज्ञार की सत्ता में कोई परिवतन नहीं हुआ--सन्‌ १६६७ की ऋति-अ्रमिकों का शासन ~ स्थानोयं च प्रान्वोय सरकार - निर्वचन चौर प्रतिनिधित्व का श्राधार--य्रास्थ और फैक्टरी स्पेवियट-डिस्ट्रिक्ट सोवियट-आदेशिक सोष्ठियर (,७६1०००] 8०९1०४)-स्वाघोन उपएराज्य -रूख की केन्द्रीय सरकार -- सोवियट न्‍्यायमंडल---छोटे न्‍्यायाद्यय-प्रादेशिक न्‍्यायालयथ- सर्वोच्च स्यायाबय--सघ का सर्वोच्च न्‍्यायाद्यय सोगियट श्ासन-विधान का घुनर्निमोय - एक नये शासन-विधान के विकास का प्रयत्न -खब्‌




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now