भजनमाला | Bhajanmala

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : भजनमाला - Bhajanmala

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about स्वामी शिवानन्द - Swami Shivanand

Add Infomation AboutSwami Shivanand

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
जिन्हीं पद पद्म पाण्डव दल में जा कर काज सब सारे। उन्दी चरणो को शिव-आनन्द नित रहता है सवलाई ॥४॥ ये हरि ` | ५ | चमे जा राम कला पनस # भजन # हमें क्यों नाथ तुम भूले हो सुधि लो श्याम बनवारी। निभा लो बांह गहने की तुम्हीं को लाज है सारी॥१॥ हमें ** भरोसा ओर का मुझको नहीं बस यक्त तुम्हारा है। पड़ा हूँ द्वार पर উই मेरी भी आयेगी वारी ॥२] ह्मे द तुम्हीं दाता हो सब जग के तुम्दीं पालन करो जग का। (७)




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now