एक भेट (नाटक) | Ek Bhet (Natak)

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : एक भेट (नाटक) - Ek Bhet (Natak)

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about धीरेन्द्र मजूमदार - Dheerendra Majoomdar

Add Infomation AboutDheerendra Majoomdar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
» राजनाथ--आप तो गिन कर रख लेते दै महीने मे, भटा आप क्यों न शन्त होगे १ दिवाकर--न्‌ मत्तक पर हाथ पटककर ] ओफ ! [ झ्िवनाथ से ] जाओ वेटा तुम धर जाओं । [ शिवनाथ घर जाते हैं. ] दिवाकर--यह सब क्‍या ९ राजनाथ--आये और झाइने छगे आइैर मुझ पर, भेंस छाया में वॉध दो, गोवर-कड़ा साफ कर दो। क्यो? में कोई गुखम हैँ इनका ९ दिवाकर--अरे ! राजनाथ--मैं भी नहीं उठा, तो ऐंठ गये । बोले, शाह कहों है ९ मैं कोई आ छगाने वाला हु, झाड़ू पूछे नौकर से । दिवाकर--अरे वेटा, वुम्दारा वड़ा भाई है, उसमे धुरा दी स्या कह दिया उसने | तुम्हारे लिए कया नहीं करता वह ९ राजनाथ--आप भी पिताजी भुम पर लीपने लगे। अभी उस दिन आप ही न माने । मैस ने मार ही दी पूँछ, कितना गन्द्रा हो गया था मेय सूट । दिवाकर--घुछा भी तो दिया था तुम्हारे इसी भेया ने | तुरत दे दिया था पहनने को अपना, आर स्वयं बस यो ही । राजनाथ--तो कोई बात कहने के पहले टाइम और मूड भी तो देख लेना चाहिए । दिवाकर--इसका च्या अर्थ ? राजनाथ--अर्थ स्या, मेरे पास आया था मेरा एक क्लासफेलो-- दिनेशचन्द, जिसका फादर डिप्टी कलेक्टर है। उन्हें आता देख पूछ चेठा, ये कोन ९ दिवाकर--अच्छा ! राजनाथ--ये आ रहे थे धोती-कुरते में थ्ड क्लास पोजीमन में,




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now