शिवानन्द दिग्विजय | Shivanand Digvijay

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Shivanand Digvijay by स्वामी सत्यानन्द जी महाराज - Swami Satyanand Ji Maharaj

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about स्वामी सत्यानन्द जी महाराज - Swami Satyanand Ji Maharaj

Add Infomation AboutSwami Satyanand Ji Maharaj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सभी गुरुभाइयों ने भी यात्रा में निरन्तर आनन्दपूवेक अपने तन, मन और प्राण समर्पित किए तथा अपने गुरुदेव के चरणों की छाया की महिसा का अनुसरण किया*“*'तथा च कोटिशः जनता के प्रति हम अपने हृदय की इतशता को प्रकाशित करते हैं, जिन्होंने दिग्विजयी के वचनों को सुना और दिव्य जीवन के सन्देश को अपने हृदय-मन्दिर में प्रतिष्ठित किया। अजञन की तरह उन्होंने कर्मम्ृूमि भारत में कृष्ण भगवान्‌ की गीता सुनी । आदिमानव के समान उन्होंने आदिमूमि भारत में हिर्ए्यगर्भसम्मूत वेदबाणी को सुना। « दे शष्देव, दम तो आपके ह दी । किस प्रकार प्रणाम कर --दिव्य जीवन मण्डल के सेवकगण (१६ )




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now