अंतर की बात | Antar Ki Baat

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : अंतर की बात  - Antar Ki Baat

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about राधाकृष्ण प्रसाद - Radhakrishna Prasad

Add Infomation AboutRadhakrishna Prasad

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अन्तर की बात ই ओर दूसरी बार जब मैंने गोरी को देखा, वह योवन की किश्ती पर खड़ी थी | उसका रूप फूटा पड़ता था ओर आंखों की चंचलता के स्थान पर गंभीरता की एक छाया ने घर कर रखा था । में बोला--“गोरी...१” लाज से वह लाल हो उठी । “आज तुम्हें कितने दिनों बाद देखा है...। गोरी चुप रही । “वहाँ क्या मन लगता है, गोरी ? मोटी-मोटी किताबों को लेकर जब पढ़ने बेठता हूँ तब तुम्हारी याद आ जाती है......।' गोरी ने सिर का आँचल ओर खींच लिया । में बोला-सुना है, तुम्हारे व्याह के लिये तुम्हारे बाबूजी परीशान हैं. ..मुझे अपने ब्याह में बुलाओगी, गोरी...९” मेंने देखा, गोरी का चेहरा पीला पड़ गया है । ( २ ) ओर, एक दिन जब मुझे यह खबर मिली कि गौरी का ब्याह एक अधेड़ व्यक्ति से कर दिया गया, तो में मानो संज्ञाहीन हो गया । प्रोफेसर लेक्चर दे रदे थे, किन्तु मेरा मन एक व्यथा से भर गया था । जाने एक केसा अभाव मेरे प्राणों मे समा गया । घर मने पर गोरी की मांसे भट करने गया । उसने आंचल से आँसू पींछते हुए कहा था--भेया, हम गरीब ओर कर दी क्या सकते थे? तिलक-दहेज के लिये रुपये कहाँ से लाते ९




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now