जीवनी व्यक्तित्व और रचनाएँ | Jeewani Vyaktitv Aur Rachanyein

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : जीवनी व्यक्तित्व और रचनाएँ  - Jeewani Vyaktitv Aur Rachanyein

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामरतन भटनागर - Ramratan Bhatnagar

Add Infomation AboutRamratan Bhatnagar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
जीवनी, व्यक्तित्व ओर रचनाएँ ११ जाय, या रामचद्विका के छंंदों को लेकर उसका पुनर्निमोण किया जाय । ৃ केशव कवि फे नाम से दो अन्थ श्रौर मिलते हैं । उन्त भ्न्थों के साम है--बालिचरित्र और हसुसान-जन्स-लीला । इनकी रचना शिथिल है । हचुमान-जन्म-लीला पर नोद्‌ देते हए सचंरिपोटे १६०६. १६१०, १६११ के लेखक लिखते है-- 10951850885 009 অ1092 0৫ [00087 01008, 119. 16 871 प्रणोत्व0क्तत 06६ 9 আ৪,5 ৩97৪4] 20 {06 {8706 पऽ [008 06 02010108, ১», ৮ लाला भगवानदीन ने केशव के सस्वन्ध से विस्तृत चचो की थी, उन्ही की टीकाएं लेकर आज फेशव के अध्ययन-अध्यापन और समालोचन का काम होता है। उनका कहना है कि ओरछा से एक इनुसानजी का मन्दिर है। जनश्रति है कि इसे कवि केशवदास ने ही संस्थापित क्रिया था । अतः संभव है कि उपरोक्त रचना कवि ही हो, और उसमें विशेष काव्य-कौशल प्रस्फुट न हुआ हो । जो हो, इन प्रस्थो के सस्वन्ध मे अभी हस संदिग्ध ही है । आवश्यकता इस वात की है कि केशव सम्बन्धी सारी सामग्री सुसंपादित और प्रासाणिक रूप से हमारे सामने उपस्थित हो जिससे झसकी समीक्षा का कास निश्चयात्मक रूप से किया जा सष, । श्रमी तकत प्रस्तुत सासमी की दशा किसी प्रकार अआशाजनक नत ६ । रामचंद्रिका प्रसिद्ध सहाकाव्य हे सका सम्बन्ध महाराज रामचद्रकीक्थासे ह| इतकी रचना-तिथि संवत्‌ १६५८ दै । म प्रकार यह्‌ रचना रासचरितसानस की रचसा के २७ वर्ष वाद प्रकाश से आई । कविप्रिया की रचना सी इसी वर्ष (४६४८) हुई | इसमें अलंकारो का विशद विवेचन है। केशव ने उशुत वी भी “अलंकार” साना है ओर जिन वर्णनों से राम-




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now