आगम युग का जैन दर्शन | Aagam yug Ka Jain Darshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : आगम युग का जैन दर्शन  - Aagam yug Ka Jain Darshan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दलसुख मालवनिया - Dalsukh Malvania

Add Infomation AboutDalsukh Malvania

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
( १७ [१] प्रमेयनिरूपण .१-- तत्त्व, अथं, पदां, तत्त्वाथं २--सत्‌ का स्वरूप ३--द्रव्य, पर्याय गौर गुण का लक्षण ४-- गुणं गौर पर्याय से द्रन्य वियुक्त नहीं भ--कालद्रन्य ६--पुद्गलद्रव्य ७--इन्द्रियनिरूपर. ८--अमूतं द्रव्यो की एकत्रावगाहना [२] प्रमाणनिरूपण १- पंच ज्ञान ओौर प्रमाणो का समन्वय २--प्रत्यक्ष-परोक्ष ३--प्रभाणसंख्यान्तर का विचार ४-- प्रमाण का लक्षण ५--ज्षानों का स्वभाव और व्यापार ६--मति-श्रुतिका विवेक ७--मतिज्ञान के भेद ८--अवग्रहादि के लक्षण और पर्याय [३] चयनिरुषण प्रास्ताविक १--नयसंख्या २--नयों के लक्षण ३-- नूतन चिन्तन \ (च) घ्ाचायं कुल्दङुल्द फी संनवशन फो देन प्रास्ताविक ` [१] प्रभेषनिरूपण १--तत्त्व, अर्थ, पदार्थ और तत्त्वाथे २--अनेकान्तवाद ই- द्रव्य का स्वरूप ४-- सत्‌ द्रव्य = सत्ता ५--द्रन्य, गुण ओर पर्यायं का सम्बन्ध २०७ २०७ २०८ २१० २१३ २१३ २१४ २१७ २१७ २१७ २१७ २१५ २१६ २२० २२० २२१ ` २२१ २२३ २२६ १२९१ २२७ २२७ २२८ २३१ २३१ २३३ २३३ २३४ २३४ २३ब्‌ २३६




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now