अलौकिक शक्तियां | Alaukik Shaktiyan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Alaukik Shaktiyan by गोविन्द सिंह - Govind singh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about गोविन्द सिंह - Govind singh

Add Infomation AboutGovind singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
जाग्रत कर सक्ते है । इमर्सन का कथन है, मनुष्य अलौकिकं शक्तियो का मडारहै। इसी भडार के बल पर वह जल और नभ की सैर कर रहा है। क्या यह्‌ काम. कम अलौकिक है ! मनुष्य अपनी अलौकिक शक्तियों का मालिक है। नह दुःख की बात है कि हममें से अधिक इनको जानते ही नहीं हैं। वह हमारे में ही सुप्त पड़ी हुई है। उनको जाग्रत कर ही नहीं पाते हैं। यदि हम ऐसा नही करते तो हमारी कामनाएं पूरी नहीं हो सकती हैं। हम केवल सपता ही देखते रह जायेंगे। कामनाएं धरी-की-घरी रह जायेंगी । क्या कामनाएं हैं आपकी ! उन पर सोचें और आप निइचय ही उनको पूरा कर सकते ह! अपनी ईश्वर प्रदत्त अलौकिक शक्तियीं को जाग्रत करिये। तब आप देखेंगे कि वह पूरी हो रही हैं। साकार हो रही हैं । यह सत्य है। इसके लिये आपको भाग्यवादी नहीं है। अपनी शक्ति का प्रयोग करना पडेगा ! आप अपने वल पर सव कुछ पा सक्ते हैँ । ह्‌ एक न्नुव -सत्य रै \ कामनाएु अवद्य पुरी होती रै \




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now