जैन समाज दर्पण | Jain Samaj Darpan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : जैन समाज दर्पण - Jain Samaj Darpan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कमलकुमार जैन शास्त्री - Kamalkumar Jain Shastri

Add Infomation AboutKamalkumar Jain Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
के वन्दे वोरम्‌ू जगदू गुरुम्‌ # जैन-समाज-द्पणु कन्द्ना ज्ञान-बुद्धि-विवेक के जो प्राथमिक आधार हैं । लोक हितकर आस्म-रत आनन्द के भण्डार हैं ॥ है महा मङ्गल मयी जिनकी विमल अभिव्यज्ञना । प्रथम उन जेनेन्द्र को श्रद्धा सहित है बन्दना ॥ १॥




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now