विज्ञान परिषद अनुसन्धान पत्रिका | Vigyan Parishad Anusandhan Patrika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : विज्ञान परिषद अनुसन्धान पत्रिका  - Vigyan Parishad Anusandhan Patrika

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about सत्य प्रकाश - Satya Prakash

Add Infomation AboutSatya Prakash

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
14. एल० पी० गौतम (24) को उपपत्तिः दितीय मध्यमान प्रमेय का उपयोग करते पर 0৫ 416७६ ४) ( 5१ (71 अ | 005 221 9 1 < ५ 108 (22 -- 1 ) पं 1८ 1 9 श्र টি (२ 5 6५ _ 76 __ | ८05 111८ ८५) 79 108 (४ + 1) 1 7/79 51] 7 1৫ ^ 192 (271)? জিপ ऋणः = ४ 1<- ८५५ ৫) 7719 न & (24-11) চার রঃ 155 0871) 511 7 ८५५ ५, 111,-./0 --1 1 न व, টা টি 10671), १. [০০-৫] 106 (४ 1 1) ( | এ को काफी बड़ा मानने पर ऐबेल की ग्राशिक संकलन विधि द्वारा हमें निम्नांकित प्राप्त होगा ]1 6७ ০০৫৫-3)1 3०1... ^ (० ध লেপ সা যা | £ 108 ८०१ 7 ८७८५ ~1 1 (© ~1)(1*~ 19 1 न 0 ( ८८५८ ^ [र / ) ८~ 108 ८८) (25) की उपपत्ति : (2.41) से चलने पर हेम लिख सकते हैं : ८५“ , () ॥ गन, े 1 [০৫-] 108 (1 नुः ] ) 511) 111 ८५५ ८0५४: 1)(7- (6 -- 1) 6) 2 510 7 [७५१] 2০৫. ০১(০-3)(৮-৫0) 1) 8 108० ০) < {` £ ८ -1 इसी प्रकार से (2:3) (2-4) तथा (2-5) से झ्राकल (2-6) (2-7) तथा (2-8) सरलता से उपलब्ध किये जा सकते हैं प्रमेय ^ की उपपत्ति : हम अ्रपनी प्रमेय को केवल »>8, के लिये सिद्ध करेंगे कपोंकि




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now