ज़िंदगी की राह | Zindagi Ki Raha Par

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Zindagi Ki Raha Par by बालशौरि रेड्डी - Balshori Reddy

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about बालशौरि रेड्डी - Balshori Reddy

Add Infomation AboutBalshori Reddy

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
जिन्दगी की राह सुहासिनी ने रोते हुए सारा वृत्तान्त कह सुनाया। यह सुनकर मानो डाक्टर पर विजली गिर गई । उाक्टर सुहासिनी को धीरज वंवा ही रहेये किपोरिकोमें कार का हॉर्न सुनाई दिया। सरला टेनिस-रैकेट हाथ में घुमाते हुए गुनगुनाती हुई हाल में पहुंची । बूढ़ा नायर सामने श्राया । वह कुछ कहना चाहता था लेकिन कुछ कह न पाया। उसके दिल के भीतर से दुःख का प्रवाह उमड़ पड़ा वह्‌ फफक-फफक- बार रोने लगा । “दादा, यह तुम्हें कया हो गया ?” सरला पूछ बंठी। इतने में वगल के कमरे में अपनी वहन बुहासिनी का रुदन सुनाई पड़ा । एक छलांग में सरला वहां पहुंची। सुहासिनी ने उछलकर सरला को गले से लगाया और जोर से चिल्ला उठी--- “बवहन--- श्रौर फूट-फूटकर रोने लगी। सुहासिनी के शोक का पारावार न रहा। रोते-रोते उसने सारी कहानी कह डाली। दोनों बहनें कव तक रोती-कलपती रहीं, कहा नहीं जा सकता। डाक्टर ने वहत कुदं समाया । लेकिन वे रोती ही रहीं ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now